मेरठ: अवैध शराब के खिलाफ सपा की महापंचायत नहीं आई ग्रामीणों को रास, दिखाए काले झंडे
Meerut News in Hindi

मेरठ: अवैध शराब के खिलाफ सपा की महापंचायत नहीं आई ग्रामीणों को रास, दिखाए काले झंडे
ग्रामीणों ने सपा नेताओं को दिखाए काले झंडे

मेरठ (Meerut) के मीरपुर जखेड़ा गांव में बुधवार को सैकड़ों की संख्या में जुटे लोगों और सपा कार्यकर्ताओं ने अवैध शराब के खिलाफ हल्ला बोला था.

  • Share this:
मेरठ. पश्चिम उत्तर प्रदेश में अवैध शराब (Illegal Liquor) को लेकर आए दिन प्रदर्शन हो रहे हैं. लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई ज़मीन पर नज़र ऩहीं आ रही है. लिहाज़ा लोगों का गुस्सा नेताओं पर फूट पड़ा और उन्होंने महापंचायत करने पहुंचे समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेताओं को काले झंडे दिखाए और कहा कि मौतों पर सियासत बंद करो. मेरठ (Meerut) के मीरपुर जखेड़ा गांव में बुधवार को सैकड़ों की संख्या में जुटे लोगों और सपा कार्यकर्ताओं ने अवैध शराब के खिलाफ हल्ला बोला था. लोगों ने हाथ उठाकर एक सुर में कहा कि इस गंदे धंधे पर रोक लगे क्योंकि ये काला कारोबार लोगों की ज़िन्दगियां निगल रहा है.

सपा नेताओं ने 10 लाख रुपए मुआवजे की मांग

महापंचायत में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी पहुंचे हुए थे. सपा नेताओं ने मांग की कि अवैध शराब की वजह से जान गंवाने वाले लोगों के परिजिनों को दस दस लाख का मुआवज़ा दिया जाए. न्यूज़ 18 से ख़ास बातचीत में ग्रामीणों ने भी बताया कि अवैध शराब का ये गोरखधंधा कोई आज का नहीं है, बल्कि वर्षों से चला आ रहा है. ग्रामीण मांग करते हुए नज़र आए कि अवैध शराब के आकाओं को जेल भेजा जाए. वहीं सपा नेताओं ने भी जमकर  राजनीतिक रोटियां सेंकीं. सपा नेताओं की राजनीति गांव के लोगों को रास नहीं आई और उन्होंने नेताओं को ही काले झंडे दिखाए.



पिछले दिनों तीन लोगों की हुई थी मौत
गौरतलब है कि बीते दिनों मेऱठ के मीरपुर जखेड़ा गांव में तीन लोगों की मौत हुई थी. ग्रामीणों ने उस वक्त भी आरोप लगाया था कि अवैध शराब ने तीन ज़िन्दगियां लीली है. मीरपुर जखेड़ा गांव बागपत की सीमा से जुड़ा हुआ है. यहीं से कुछ ही दूरी पर बागपत का भी वो गांव मौजूद है जहां अवैध शराब की वजह से मौतों की बात कही जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading