मेरठ की मेयर का फरमान- रमजान के दौरान नौचंदी मेले में नहीं होगा सांस्कृतिक कार्यक्रम

अकीदतमंदों को कार्यक्रम की वजह से कोई परेशानी न हो इसलिए महापौर सुनीता वर्मा ने निर्देश जारी किया है कि 16 मई की शाम से पटेल मंडप में कोई कार्यक्रम आयोजित न किया जाए.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 16, 2018, 3:14 PM IST
मेरठ की मेयर का फरमान- रमजान के दौरान नौचंदी मेले में नहीं होगा सांस्कृतिक कार्यक्रम
मेरठ की मेयर सुनीता वर्मा. Photo: News 18
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 16, 2018, 3:14 PM IST
नौचंदी मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रम रमजान के लिए नहीं होंगे. नौचंदी मेला परिसर में प्रतिदिन होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई है. मेरठ की मेयर सुनीता वर्मा ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया है. मुस्लिमों की इबादत के विशेष माह रमजान की वजह से नौंचदी मेला परिसर स्थित पटेल मंडप के कार्यक्रमों नहीं किए जाने का हुक्म महापौर ने दिया है. आज शाम से अब नौचंदी मेले में कोई कार्यक्रम नहीं होंगे, जो कि 19 मई तक आयोजित होने थे. नौचंदी मेला के उपलक्ष्य में पटेल मंडप में परंपरानुसार प्रतिदिन सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहे थे. इसमें मुशायरा, कवि सम्मेलन, हास्य कवि सम्मेलन, म्यूजिक व गीत संध्या, बच्चों के कार्यक्रम व जादू आदि के जरिए लोगों का मनोरंजन किया जाता है.

अलग-अलग आयोजनों की तिथि निर्धारित की गई थी, जिसके अनुसार यहां 19 मई तक कार्यक्रम होने थे. मगर ये कार्यक्रम अब रमजान की वजह से बंद कर दिए गए हैं. इस्लामिक कैलेंडर का महीना रमजान 17 मई से शुरू होने की संभावना है. नौचंदी मेला परिसर स्थित पटेल मंडप के पास ही दो मस्जिद हैं, यहां पर बड़ी संख्या में अकीदतमंद तराबी पढ़ने आते हैं. अकीदतमंदों को कार्यक्रम की वजह से कोई परेशानी न हो इसलिए महापौर सुनीता वर्मा ने निर्देश जारी किया है कि 16 मई की शाम से पटेल मंडप में कोई कार्यक्रम आयोजित न किया जाए.

Nauchandi Mela Meerut
नौचंदी का ऐतिहासिक मेला. Photo : News 18


उन्होंने इसके लिए नगर आयुक्त व संयुक्त समिति मेला नौचंदी के सचिव को पत्र जारी किया है. हालांकि इस बाबत न तो मेरठ के डीएम और न ही नगरआयुक्त कुछ साफ-साफ बोलने को राज़ी है. मेयर साहिबा के आदेश की कॉपी न्यूज़ 18 के पास है. मेयर सुनीता वर्मा से जब हमने इस पर फोन पर बात की तो उन्होंने इस आदेश की पुष्टि की है.

बता दें इससे पहले मेयर पद पर चुने जाने के बाद सुनीता वर्मा के कुछ निर्णय विवादित रहे हैं. उनका नगर निगम के सदन में वंदेमातरम् नहीं गाने को लेकर लिया गया निर्णय खासा चर्चा में रहा था. सुनीता वर्मा के पति योगेश वर्मा बसपा के पूर्व विधायक हैं,  पिछली 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान हिंसा में उन्हें जेल जाना पड़ा था.

मेयर का पत्र
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर