लाइव टीवी

आतंक का पर्याय बनी महिला डकैतों का गैंग अरेस्ट, कहानी जानकर रह जाएंगे दंग!

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 30, 2020, 10:45 PM IST
आतंक का पर्याय बनी महिला डकैतों का गैंग अरेस्ट, कहानी जानकर रह जाएंगे दंग!
मेरठ पुलिस ने पकड़ा महिला डकैतों का गैंग

इस गिरोह को लेकर पुलिस (Meerut Police) के कान तब खड़े हुए जब बीते दिनों मेरठ के परतापुर और खरखौदा इलाके में कई डकैतियां एक ही पैटर्न पर डाली गईं.

  • Share this:
मेरठ. जनपद पुलिस (UP Police) ने महिला डकैतों के गिरोह का पर्दाफाश करते हुए चार आरोपी महिलाओं समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया है. हैरानी की बात ये है कि इस डकैत गिरोह की महिलायें पुलिस की वर्दी पहनकर वारदात को अंजाम देती थीं. इस गिरोह के कुल नौ सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी पाई, इनके पास से भारी मात्रा में ज़ेवरात, नकदी, हथियार और वाहन बरामद किया गया है. पुलिस के मुताबिक इस डकैत गिरोह में कुल नौ सदस्य थे जिनमें चार महिला डकैत थीं. इस गैंग के डकैती करने के तरीके को सुन कर कोई भी हैरान रह जाएगा.

पूरी तैयारी से देते थे डकैती की वारदात को अंजाम
मेरठ सहित वेस्ट यूपी (west UP) के कई जनपदों में इस गिरोह का आतंक था. बीते दिनों मेरठ के परतापुर और खरखौदा क्षेत्रों में इस गिरोह ने ताबड़तोड़ डकैती की वारदातों को अंजाम दिया था. गिरोह के वारदात करने का तरीका बेहद शातिराना था. ये गिरोह महिलाओं को आगे कर डकैती की वारदात को अंजाम दिया करता था. पहले इस गिरोह के पुरुष डकैत महिला डकैतों के साथ कार में बैठ कर इलाके की रेकी करते और अपना शिकार ढूंढते थे. फिर अपने प्लान को पुख्ता करने के लिए कोई महिला झाड़ू बेचने के बहाने अपने टार्गेट को खंगालती तो कोई महिला अपने बच्चों के साथ मिलकर दाल, चावल, आटा मांगने के बहाने अपने शिकार की तह लेती. जब इस गिरोह को विश्वास हो जाता कि यहां डकैती डाली जा सकती है. तब फिर ये रात के अंधेरे में ख़ाकी वर्दी पहनकर रेड डालने के बहाने घर की कुंडी खटखटाते और फिर दरवाज़ा खुलने पर गन प्वाइंट पर सभी सदस्यों को लेकर नकदी, ज़ेवरात, सोना-चांदी लूट कर फरार हो जाते थे.

meerut police, crime,dacoits
पकड़ी गईं शातिर डकैत


इस गिरोह को लेकर पुलिस के कान तब खड़े हुए जब बीते दिनों मेरठ के परतापुर और खरखौदा इलाके में कई डकैतियां एक ही पैटर्न पर डाली गईं. बीती 24-25 जनवरी की दरमियानी रात को परतापुर में ऐसी दो डकैतियों को अंजाम दिया गया. यही नहीं 26-27 जनवरी को भी खरखौदा इलाके में ऐसे ही गन प्वाइंट पर परिवार को बंधक बनाकर डकैती की वारदात को अंजाम दिया गया. मेरठ के थाना परीक्षितगढ़ में भी बीती 21-22 जनवरी की रात को ऐसे ही डकैती की वारदात को अंजाम दिया गया था. 4 जनवरी को हापुड़ के सिम्भावली में भी ऐसे ही डकैती की वारदात को अंजाम दिया गया था. यही नहीं इससे पहले बीते नवंबर में मेरठ के नौचंदी थानाक्षेत्र में और 24-25 दिसंबर को गाज़ियाबाद में ऐसे ही डकैती की वारदात को अंजाम दिया गया था.

गिरोह के सदस्य चन्द्रपाल, संदीप, राहुल, कविता खरखौदा के रहने वाले हैं. जबकि कमलेश, बिरजू, श्रीमती सूरदा, कविता और मनोज हापुड़ के रहने वाले हैं. इस गिरोह के दो सदस्य सुखपाल और मॉन्टी अभी भी फरार हैं जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है. मेरठ के एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि ये गिरोह खानाबदोश की तरह रहता था. इस गिरोह के सदस्य कभी एक जगह नहीं रहते थे. किराए का मकान लेकर ये जगह बदलते रहते थे. गिरोह के पास से दो तमंचे, चाकू, एक कार, एक थ्री व्हीलर, नकदी,जेवरात, ताला तोड़ने के उपकरण आदि बरामद हुए हैं. पुलिस के मुताबिक गिरोह के सदस्य राहुल, संदीप,चन्द्रपाल और सुखपाल का लम्बा चौड़ा आपराधिक इतिहास है.फिलहाल पुलिस गिरोह की और छानबीन में लगी हुई है.

ये भी पढ़ें- फर्रुखाबाद घटना पर CM योगी ने बुलाई आपात बैठक, कहा- बच्चों को बचाना हमारी प्राथमिकताCAA Protest: बिना अनुमति जुलूस निकालने वालों के खिलाफ कानपुर पुलिस ने किया केस दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 10:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर