Home /News /uttar-pradesh /

मेरठ:-देखिए आखिर क्यों डिजिटल प्रचार से फीकी पड़ी चुनाव प्रचार सामग्री की चमक

मेरठ:-देखिए आखिर क्यों डिजिटल प्रचार से फीकी पड़ी चुनाव प्रचार सामग्री की चमक

X

भले ही सोशल मीडिया Social Media पर विधानसभा चुनाव Assembly Election की सरगर्मी देखने को मिल रही हो.लेकिन चुनाव सामग्री तैयार करने वाले कारोबारियों के सा

    भले ही सोशल मीडिया Social Media पर विधानसभा चुनाव Assembly Election की सरगर्मी देखने को मिल रही हो.लेकिन चुनाव सामग्री तैयार करने वाले कारोबारियों के सामने अब भी आर्थिक संकट के बादल मंडराए हुए हैं.क्योंकि जिस प्रकार हर बार बड़ी मात्रा में राजनीतिक पार्टियों द्वारा चुनावी सामग्री को तैयार करने के ऑर्डर दिए जाते थे.लेकिन इस बार सिर्फ इक्का-दुक्का लोग ही दे रहे हैं.NEWS-18 LOCAL MEERUT की टीम से बातचीत करते हुए चुनाव प्रचार कारोबारियों ने कहा,कि सोचा था कोरोना महामारी की वजह से जो आर्थिक तंगी उत्पन्न हुई थी.उससे यूपी विधानसभा चुनाव UP Assembly Election में राहत मिलेगी.लेकिन कहीं ना कहीं यह विधानसभा चुनाव भी डिजिटल प्लेटफॉर्म Digital Platform पर ऐसे सक्रिय हुए की अबकी बार अभी तक के रुझान को देखकर लगता नहीं कि रोजी-रोटी का इंतजाम हो पाएगा.क्योंकि जिस तरीके से केवल कुछ लोग ही चुनाव प्रचार सामग्री Election Campaign Material के लिए संपर्क कर रहे हैं.उससे व्यापार को राहत की उम्मीद नहीं है.

    सिर्फ ऑर्डर तक सीमित
    दुकानदारों ने बताया कि हर बार बड़ी संख्या में चुनावी सामग्री बनाते थे.लेकिन अबकी बार जो लोग आर्डर दे रहे हैं.सिर्फ उनकी ही चुनाव संबंधित सामग्री को तैयार कर रहे हैं.क्योंकि महंगाई के दौर में नेता महंगी चुनावी सामग्री खरीदने से बच रहे हैं.वहीं चुनाव सभाओं को करने की अनुमति न मिलने के कारण भी झंडे, पटके, टोपी की बिक्री में खासा कमी आई है.इसका असर भी उनके कामकाज पर पड़ रहा है.

    पूर्व में हुई रैलियों में ही बिके झंडे

    दुकानदारों की मानें तो पूर्व में संयुक्त रूप से रालोद और सपा की गठबंधन के बैनर और झंडे टोपी की डिमांड हुई थी.उसके बाद भारतीय जनता पार्टी के सम्मेलन और रैलियों में ही झंडे की लोगों ने डिमांड करी थी.ऐसे में अभी तक उसके अलावा कोई बड़ी मात्रा में झंडे,टोपी,पटके की बिक्री नहीं हुई हैं. हालांकि उन्हें उम्मीद है कि अब चुनाव प्रचार शुरू होगा तो उन्हें राहत मिलेगी.

    रिपोर्ट विशाल भटनागर मेरठ

    Tags: Assembly elections, उत्तर प्रदेश, मेरठ

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर