Lockdown: मेरठ में रेड जोन के व्यापारियों ने दुकानें खोलने की उठाई मांग...
Meerut News in Hindi

Lockdown: मेरठ में रेड जोन के व्यापारियों ने दुकानें खोलने की उठाई मांग...
मेरठ के व्यापारियों ने सौंपा ज्ञापन

व्यापारियों की सीएम योगी से मांग है कि उनके बच्चों की लॉकडाउन (lockdown) के समय की फीस माफ की जाए, क्योंकि व्यापारी भुखमरी की कगार पर पहुंच चुका है और वो बच्चों के स्कूल की फीस भरने में असमर्थ है. व्यापारी बैंक के ब्याज की माफी की मांग भी कर रहे हैं.

  • Share this:
मेरठ. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर देशव्यापी लाॅकडाउन (Lockdown) चल रहा है. लेकिन लॉकडाउन के दौरान मेरठ में व्यापारी वर्ग की जिला प्रशासन से नाराजगी बढ़ती जा रही है. व्यापारियों का आरोप है कि उनकी जिला प्रशासन से  समस्याओं को लेकर कई बार वार्ता हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका है.

व्यापारियों की मांग है कि उन्हें दिन में तीन-चार घंटे के लिए कम से कम अपनी दुकानों की साफ-सफाई के लिए खोलने की अनुमति दी जाए. मेरठ संयुक्त व्यापार संघ के अध्यक्ष नवीन गुप्ता का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से पिछले 67 दिन से सभी दुकानें बंद हैं और व्यापारियों ने लॉकडाउन को पूर्ण समर्थन दिया है. लेकिन क्योंकि उनकी दुकानें पिछले दो महीने से ज्यादा समय से बंद हैं लिहाजा एक बार वो अपनी दुकान खोलकर साफ सफाई करना चाहते हैं. जिसे लेकर आज व्यापारी धरने पर भी बैठे और जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा.

लाॅकडाउन में करोड़ों का नुकसान
व्यापारियों का कहना है कि सोचिए मिठाई की दुकान की क्या हालत होगी, सब कुछ सड़ गया होगा, खाद्य पदार्थों की दुकानों की हालत का अंदाजा फिर भी लगाया जा सकता है. कपड़ों की दुकानों का हाल तो और बुरा होगा जहां सारा सामान चूहे कुतर चुके होंगे. कई दुकानों में दीमक लग चुका होगा, जूते की दुकानों में फफूंद लग चुकी होगी. व्यापारियों ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित पत्र में मांग की है कि उनके बच्चों की इस दौरान की फीस माफ की जाए क्योंकि व्यापारी भुखमरी की कगार पर पहुंच चुका है और वो बच्चों के स्कूल की फीस भरने में असमर्थ है. व्यापारी बैंक के ब्याज की माफी की मांग भी कर रहे हैं. यही नहीं बिजली के बिल को लेकर भी व्यापारी रियायत की मांग कर रहे हैं.
गौरततलब है कि मेरठ में कोरोना के मरीजों का आकंड़ा लगातार बढ़ रहा है. यहां अब तक 386 केस कोरोना संक्रमित के पाए गए हैं जबकि 23 लोग कोरोना की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं. ऐसे में फिलहाल मेरठ जिला प्रशासन यहां कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) में किसी भी प्रकार की छूट देने के मूड में नहीं है. मेरठ में दो दिन सुपर लॉकडाउन भी रहता है जिस दिन दवा और दूध की दुकानों को छोड़कर किराने की दुकान तक नहीं खुलती है.



ये भी पढ़ें- सीएम योगी का रोजगार देने का यह फॉर्मूला रहा 'हिट', उद्यमियों ने मांगे 5 लाख श्रमिक और कामगार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज