मेरठ मेडिकल कॉलेज में पसरी गंदगी देख भड़के मंत्री, बोले- जब सरकार पैसा देती है तो टॉयलेट में साबुन क्यों नहीं
Meerut News in Hindi

मेरठ मेडिकल कॉलेज में पसरी गंदगी देख भड़के मंत्री, बोले- जब सरकार पैसा देती है तो टॉयलेट में साबुन क्यों नहीं
मेरठ मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने पहुंचे चिकित्सा शिक्षा मंत्री (फाइल फोटो)

गौरतलब है कि मेरठ मेडिकल कॉलेज की उस वक्त देशभर में किरकिरी हुई थी जब यहां एक बंदर कोरोना मरीजों (Corona Patients) के ब्लड सैंपल छीनकर भाग गया था.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मेरठ. मेरठ मेडिकल कॉलेज प्रशासन को अंदाजा भी नहीं था कि मंत्री अस्पताल के टॉयलेट (Toilet) का भी निरीक्षण कर सकते हैं. जैसे ही चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना (Suresh Khanna) टॉयलेट के अंदर दाखिल हुए उन्हें अंधेरा दिखा. टॉयलेट में सिर्फ एक लाइट किसी तरह बाद में जली. टॉयलेट की ट्यूबलाइट फ्यूज देखकर भड़के मंत्री ने इसे फौरन दुरुस्त करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि अस्पताल के टॉयलेट में साबुन और हाथ पोंछने की भी व्यवस्था की जाए. मंत्री के साथ राज्यमंत्री सुनील भराला भी मौजूद थे. वो तो अस्पताल प्रशासन से यहां तक पूछ बैठे कि जब सरकार पैसा देती है तो टॉयलेट में साबुन क्यों नहीं है. उन्होंने टॉयलेट में फिनायल की गोली न होने पर भी नाराजगी जताई.

मंत्री सुरेश खन्ना ने स्पष्ट निर्देश दिए कि कोरोना के साथ-साथ अन्य मरीजों के इलाज में कोई कोताही बर्दाश्त नहीं होगी. उन्होंने रजिस्टर भी चेक किया और ओपीडी में कम मरीज की संख्या होने पर कहा कि ये गलत है. ओपीडी में ज्यादा से ज्यादा मरीजों का इलाज हो.

मेडिकल कॉलेज प्रशासन को फटकार
चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने निरीक्षण के दौरान इमरजेंसी में भर्ती मरीजों से बात की. उन्होंने मरीजों को दिया जाने वाला खाना भी चेक किया. मंत्री ने मरीजों को दिया जाने वाले नाश्ते और खाने का मेन्यू भी पूछा. मंत्री ने मरीजों से ये भी पूछा कि क्या डॉक्टर राउंड पर आते हैं या नहीं. हालांकि मरीजों ने बताया कि डॉक्टर राउंड पर आते हैं. यही नहीं मंत्री जी ने अस्पताल में पसरी गंदगी को लेकर मेडिकल कॉलेज प्रशासन को फटकार भी लगाई.



सोशल डिस्टेंसिंग भूले मंत्री जी


हालांकि मंत्री के आगमन को लेकर प्रशासन कितना खौफ में था इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मंत्री के आगमन के पहले ही मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बदंरों के आतंक से निपटने के लिए लंगूर की तैनाती कर दी. अस्पताल प्रशासन सोच रहा था कि कहीं मंत्री बीते दिनों कोरोना मरीजों का ब्लड सैंपल बंदर के छीन कर ले जाने के बारे में न पूछ लें. गौरतलब है कि मेरठ मेडिकल कॉलेज की उस वक्त देशभर में किरकिरी हुई थी जब यहां एक बंदर कोरोना मरीजों के ब्लड सैंपल छीनकर भाग गया था. हालांकि इस निरीक्षण के दौरान मंत्री जी खुद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भूल गए. मंत्री सुरेश खन्ना जब अस्पताल का निरीक्षण कर रहे थे तो वहां अच्छी खासी भीड़ थी.

ये भी पढ़ें:- अलीगढ़ में दिनदहाड़े कैश वैन से 22.70 लाख की लूट, फायरिंग के दौरान लोग 4 घायल
First published: June 1, 2020, 5:35 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading