UP: इस साल अच्छी बारिश की संभावना, जानिए राज्य में कब दस्तक देगा मानसून

भारतीय कृषि प्रणाली अनुसंधान संस्थान के सीनियर साइंटिस्ट डॉक्टर शमीम का कहना है कि यूपी में इस बार अच्छी बारिश की संभावना है.

भारतीय कृषि प्रणाली अनुसंधान संस्थान के सीनियर साइंटिस्ट डॉक्टर शमीम का कहना है कि यूपी में इस बार अच्छी बारिश की संभावना है.

बारिश से धान और गन्ने की फसल को जबरदस्त फायदा होगा. नगर निगम और जिला मलेरिया विभाग सतर्क हो गया है. मेरठ में नालों की सफाई और ग्रामीण इलाकों में एंटी लार्वा स्प्रे के साथ-साथ फॉगिंग के काम में जुटा विभाग.

  • Share this:

मेरठ. केरल में मॉनसून पहुंच चुका है और पूर्वानुमान है कि जून के अंतिम सप्ताह तक यूपी में भी यह पहुंच जाएगा. मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, 22 जून को पूर्वी उत्तर प्रदेश में मॉनसून आ जाएगा, जबकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में शानदार बारिश 25-26 जून से शुरू हो जाएगी. मेरठ में भारतीय कृषि प्रणाली अनुसंधान संस्थान के सीनियर साइंटिस्ट डॉक्टर शमीम का कहना है कि यूपी में इस बार अच्छी बारिश की संभावना है. उन्होंने बताया कि इस बार की बारिश किसानों के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगी. खासतौर से धान और गन्ने की फसल को जबरदस्त फायदा होगा. डॉक्टर शमीम का कहना है कि मॉनसून एक ग्लोबल फिनोमिना है. अगर यह अपना पैटर्न चेंज करता है तो उसकी स्टडी करने की जरुरत होगी.

नगर निगम और मलेरिया विभाग हुआ सक्रिय

मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि इस बार यूपी में रिकॉर्ड बारिश हो सकती है. जून से सितंबर तक 4 महीनों के दौरान 96-104 सेमी बारिश होने की संभावना है. इन चार महीनों में सामान्य बारिश 88 मिमी होती थी. यूपी में अच्छी बारिश होने की खबर से नगर निगम और तैयारियों में जुट गया है. मेरठ नगर निगम ने 300 नालों की सफाई का काम शुरू कर दिया है. नगर आयुक्त ने टीम बनाकर नालों की सफाई का खाका तैयार किया है. गौरतलब है कि हर बारिश में मेरठ में जाम नाले मुसीबत का सबब बन जाते हैं. यहां तक कि नालों का पानी लोगों के घर में पहुंच जाता है. इस बार ऐसे हालात न बनें इसलिए नगर निगम अभी से युद्धस्तर पर जुट गया है. नालों के किनारे पौधे लगाने का काम भी नगर निगम ने शुरू कर दिया है. वहीं जिला मलेरिया विभाग ने भी एंटी लार्वा स्प्रे को लेकर टीमें गठित कर दी हैं. जिला मलेरिया अधिकारी का कहना है कि गांव-गांव में फॉगिंग और एंटी लार्वा स्प्रे का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है.

सेहत की चिंता
निश्चित तौर अच्छे मॉनसून की खबर लोगों को राहत दे रही है. लेकिन यह राहत आफत न बन जाए इसलिए नगर निगम और जिला मलेरिया विभाग की टीम का भी सतर्क होना जरूरी है. अगर नालों की सफाई का अभियान युद्धस्तर पर हुआ और गांव-गांव तक मलेरिया विभाग की टीम एंटी लार्वा स्प्रे और फॉगिंग का काम बेहतर ढंग से कराने में कामयाब रही, तो लोग बारिश की बूंदों का आनंद ले सकेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज