लाइव टीवी

बयान से पलटा नसीम, कहा- कंपनी मालिक को फंसाने के लिए गढ़ी 'पत्थरबाजी' की कहानी
Meerut News in Hindi

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: June 23, 2018, 9:16 AM IST
बयान से पलटा नसीम, कहा- कंपनी मालिक को फंसाने के लिए गढ़ी 'पत्थरबाजी' की कहानी
प्रतीकात्मक

नसीम ने दावा किया है कि उसने और उसके दोस्तों ने झूठ बोला था. हमलोगों ने मिलकर कंपनी मालिक पर पत्थरबाजी का दबाव बनाने का आरोप लगाया था.

  • Share this:
कश्मीर घाटी में पत्थरबाज़ी की घटनाओं से पश्चिमी उत्तर प्रदेश का कथित कनेक्शन सामने आने के बाद हड़कंप मच गया था. न्यूज18 से बातचीत में जम्मू-कश्मीर से वापस आए बागपत के रहने वाले नसीम ने चौंका देने वाला खुलासा किया है.

नसीम ने बताया कि उसने कश्मीर में काम करने वाले डिवाइन इंडस्ट्रीज के मालिक एजाज़ वानी को बदनाम करने के लिए झूठी साजिश रची. नसीम बताते हैं कि जब ईद के दौरान घर आने पर रुपये नहीं देने पर उसने और उसके दोस्तों ने झूठा बयान मीडिया को दिया कि कश्मीर में हमलोगों को सेना पर पत्थर मारने के लिए कहा जाता था.

बता दें कि सहारनपुर जनपद के नानौता निवासी मोहम्मद अजीम राव, नकुड़ निवासी बबलू और पंकज, बागपत के युवकों के साथ कश्मीर के पुलवामा में लस्तीपुरा में डिवाइन इंडस्ट्रियल फार्म में सिलाई के काम के लिए गए थें.

बागपत जिले की बड़ौत तहसील के गुराना रोड निवासी पीड़ित टेलर मास्टर नसीम ने कश्मीर में नौकरी करने के दौरान पूरी कहानी बया करते हुए कहा कि सहारनपुर के रहने वाले बब्लू कुछ युवकों के साथ जनवरी 2018 में कश्मीर में सिलाई का काम करने वाली कंपनी डिवाइन इंडस्ट्रीज में नौकरी के लिए गया था. नसीम के मुताबिक हम सब ठीक- ठाक काम कर रहे थे.



नसीम की फोटो


जब ईद के दौरान काम का हिसाब मांगने पर कंपनी ने ईद बाद हिसाब करने की बात कही. लेकिन हमे घर आना था. इसी बात को लेकर हमारा और कंपनी के मालिक एजाज वानी से विवाद हो गया. विरोध करने पर कंपनी के मालिक की तरफ से धमकी दी जाने लगी कि चोरी के आरोप में फंसा दिया जाएगा.

नसीम ने बताया कि हमने अपने घर से रुपये मंगवाये और साथियों के साथ नसीम ने हवाई टिकट कराए. इसके बाद वह अपने सभी साथियों और परिवार को लेकर एयरपोर्ट पर पहुंचा. वहां से दिल्ली और फिर बागपत में अपने घर पहुंचकर राहत की सांस ली.

नसीम बताते हैं कि गांव पहुंचने के कुछ दिन बाद कश्मीर से कंपनी के मालिक ने धमकी भरा फोन करते हुए कहा कि तुम लोगों ने ईद में हमारा धंधा खराब किया है. हम तुम लोगों के खिलाफ पुलिस में 15- 20 लाख रुपये की चोरी का केस दर्ज करवाकर वापस यहां बुलवा लेंगे. इसी घटना के बाद हम लोगों ने मिलकर कंपनी मालिक के ऊपर पत्थरबाजी का दबाव बनाने का आरोप लगाया था. नसीम ने दावा किया कि हमने और हमारे दोस्तों ने झूठ बोला था.

एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार


फिलहाल पुलिस को नसीम की बातों पर पूरा भरोसा नहीं है. एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने कहा कि जांच के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी. फिलहाल पुलिस इन सभी युवकों से पूछताछ कर रही है और जांच कर रही है. हालांकि नसीम के बयानों में विरोधाभास दिख रहा है. पहले के बयानों से अलग हटकर वो कह रहा है कि उन पर कश्मीर में चोरी का आरोप लगाने की बात कही गई थी, इसी वजह से ऐसा बोल दिया. बहरहाल बागपत पुलिस इन युवकों के दावों की सच्चाई पता लगाने की कोशिश कर रही है.

पुलिस इस एंगल पर भी जांच कर रही है कि कहीं पैसे के लेन-देन पर विवाद के चक्कर में ही युवकों ने ऐसे बयान तो नहीं दिए. असल बात पुलिस की जांच के बाद ही सामने आएगी कि इन लोगों से पत्थरबाजी के लिए कहा जाता था या फिर पैसे के लेन-देन के चक्कर में ये ऐसे आरोप लगा रहे हैं. बहरहाल, कश्मीर में पत्थरबाजी से पश्चिमी यूपी के कथित कनेक्शन से सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गई हैं.

यह भी पढ़ें:

बंगले में तोड़फोड़ पर बढ़ी अखिलेश की मुश्किलें, HC ने सरकार से मांगी रिपोर्ट

फिर छलका चाचा शिवपाल का दर्द, कहा- अगर ऐसा होता तो दोबारा CM बनते अखिलेश

यमुना एक्सप्रेस-वे: जमीन घोटाले के आरोपी UP के पूर्व मुख्य सचिव एमपी में गिरफ्तार

"अब 2019 में मोदी की जीत के बाद ही बनेगा अयोध्या में राम मंदिर"

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 23, 2018, 7:13 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर