लाइव टीवी

COVID-19: अब यूनिवर्सिटी कोर्स में शामिल किया जाएगा कोरोना
Meerut News in Hindi

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 21, 2020, 6:35 PM IST
COVID-19: अब यूनिवर्सिटी कोर्स में शामिल किया जाएगा कोरोना
कुलपति का कहना है कि पीएम मोदी के प्रयासों से ही प्रेरणा लेत हुए उन्होंने ये निर्णय लिया है. (फाइल फोटो)

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने एक अनूठी घोषणा की है. अगले शैक्षणिक सत्र से विश्वविद्यालय में डिजास्टर मैनेजमेंट यानि आपदा प्रबंधन का एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स (Diploma course) शुरु हो रहा है. इसमें कोरोना वायरस को अलग से शामिल किया जाएगा.

  • Share this:
मेरठ. कोरोना वायरस (Coronavirus) से जंग के बीच मेरठ का चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (Chaudhary Charan Singh University) ने एक अनूठी घोषणा की है. अगले शैक्षणिक सत्र से विश्वविद्यालय में डिजास्टर मैनेजमेंट यानि आपदा प्रबंधन का एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स (Diploma course) शुरु हो रहा है. इसमें कोरोना वायरस को अलग से शामिल किया जाएगा. चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एनके तनेजा का कहना है कि कोर्स का नाम आपदा निवारण रखा गया है. दो सेमेस्टर के इस पाठ्यक्रम में ऐसी आपदाओं के निवारण पर मंथन होगा. चौधरी चरण सिंह विवि के कुलपति का कहना है कि विभागाध्यक्षों से कहा जाएगा कि वो बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक में वायरस पर भी सिलेबस बनाएं.

पहली बार ऐसा कोर्स
विवि के कुलपति ने कहा कि ब्रिटेन जैसी महाशक्ति जिस तरह से इस वायरस से निपट रही है वो इस बात का प्रमाण है कि उन्होंने इसे फैलने से रोकने की बजाए फैलने का सामना पर बल दिया है. ऐसे माहौल में ये संतोष का विषय है कि भारत के प्रधानमंत्री की सूझबूझ के कारण इस वायरस के कम्यूनिटी स्प्रेड को रोकने के लिए हम तत्पर है. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के जीव विज्ञान, जंतु विज्ञान वनस्पति विज्ञान और चिकित्सा शास्त्र के संकायों के संयुक्त प्रयास से ये पाठ्यक्रम शुरु किया जा रहा है. अभी तक विश्वविद्यालय में अलग से वायरस को लेकर कोई कोर्स नहीं था. पर्यावरण विज्ञान में भी वायरस को सिलेबस में जोड़ने की योजना बनाई गई है.

कुलपति का कहना है कि पीएम मोदी के प्रयासों से ही प्रेरणा लेत हुए उन्होंने ये निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि इस साल जुलाई महीने से शुरु होने वाले नए सत्र में कोरोनावायरस और इस प्रकार के अन्य वायरसों के फैलने के कारणों और निवारण के उपायों से संबंधित एक वर्षीय डिप्लोमा कार्यक्रम होगा.



(रिपोर्ट- उमेश श्रीवास्तव)

ये भी पढ़ें- 

निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए मुफ्त में लड़ा था केस, खास अंदाज में मिली बधाई

निर्भया के दोषियों को फांसी, मेरठ की महिलाएं बोलीं- पवन जल्लाद पर है नाज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2020, 6:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर