Home /News /uttar-pradesh /

कभी स्‍कूटर की पिछली सीट पर बैठकर करते थे प्रचार, अब राजनीतिक गुरु की सीट से शिष्‍य ने ठोकी चुनावी ताल

कभी स्‍कूटर की पिछली सीट पर बैठकर करते थे प्रचार, अब राजनीतिक गुरु की सीट से शिष्‍य ने ठोकी चुनावी ताल

UP Elections 2022: कमलदत्‍त शर्मा ने बुधवार को मेरठ शहर विधानसभा सीट से बतौर भाजपा प्रत्‍याशी पर्चा दाखिल किया. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

UP Elections 2022: कमलदत्‍त शर्मा ने बुधवार को मेरठ शहर विधानसभा सीट से बतौर भाजपा प्रत्‍याशी पर्चा दाखिल किया. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Meerut Vidhansabha Constituency: मेरठ शहर विधानसभा सीट से अब तक भाजपा के वरिष्‍ठ नेता लक्ष्‍मीकांत बाजपेई चुनाव लड़ते आ रहे थे. इस बार बीजेपी ने उनको टिकट नहीं दिया. मेरठ शहर विधानसभा सीट से भाजपा ने इस बार कमलदत्‍त शर्मा को अपना उम्‍मीदवार बनाया है. कमलदत्‍त शर्मा किसी जमाने में लक्ष्‍मीकांत बाजपेई की स्‍कूटर की पिछली सीट पर बैठकर प्रचार किया करते थे.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. राजनीति के रंग निराले हैं. मेरठ शहर विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ते आ रहे लक्ष्मीकांत बाजपेई इस बार मैदान में नहीं है. उनकी जगह उनके ही ऱाजनीतिक शिष्य कमलदत्त शर्मा चुनावी मुकाबले में उतरे हैं. कमलदत्‍त बुधवार को जब अपने राजीतिक गुरु की सीट पर नामांकन दाखिल करने पहुंचे तो वह भावुक हो गए. कमलदत्त शर्मा वरिष्‍ठ नेता लक्ष्मीकांत बाजपेई के साथ प्रचार के उन दिनों को याद करने लगे जब वह उनकी स्कूटर की पिछली सीट पर बैठकर चुनाव प्रचार किया करते थे.

लक्ष्मीकांत बाजपेई को अपना राजनीतिक गुरु मानते हुए मेरठ शहर विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी कमलदत्‍त शर्मा कहते हैं कि उनकी ही कृपा से आज वह यहां खड़े हैं. वह कहते हैं कि वह पहले भी ‘बाजपेई-बाजपेई’ के नारे लगाया करते थे और अगर आज भी लक्ष्मीकांत बाजपेई उनके प्रचार में आएंगे तो नारा लगेगा- बाजपेई ज़िन्दाबाद. कमलदत्त शर्मा का कहना है कि उनके गुरु स्कूटर से चुनाव प्रचार करते थे और वह पैदल घूम-घूम कर अपना प्रचार कर रहे हैं. कमलदत्त का कहना है कमल मेरठ में ही नहीं पूरे यूपी और भारत में खिलेगा.

BSP Candidate: बसपा ने जारी की प्रत्‍याशियों की एक और लिस्‍ट, आगरा क्षेत्र में बदले 2 उम्‍मीदवार

 उत्‍तर प्रदेश के भाजपा अध्‍यक्ष रह चुके हैं लक्ष्‍मीकांत बाजपेई
गौरतलब है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. लक्ष्मीकांत बाजपेई का मेरठ शहर से टिकट इस बार काटा गया है. उनकी जगह युवा नेता कमलदत्त शर्मा को टिकट देकर चुनाव मैदान में उतारा है. लक्ष्‍मीकांत भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं. वह वर्ष 2012 से लेकर 2014 तक उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष थे. इस दौरान पार्टी ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी में 71 सीटें जीती थीं. अब पार्टी ने उनकी वरिष्ठता और अनुभव को ध्यान में रखकर इनको अहम जिम्मेदारी सौंपी है.

सादगी की मिसाल
बता दें कि डॉ. लक्ष्मीकांत बाजपेई वर्ष 2017 में मेरठ शहर सीट से विधानसभा चुनाव हार गए थे. इसके बाद से उनके पास कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी नहीं थी. डॉ. लक्ष्मीकांत बाजपेई आज भी अपनी सादगी के लिए जाने जाते हैं. चार बार विधायक रह चुके लक्ष्‍मीकांत बाजपेई मेरठ में स्‍कूटर से चलते हैं. डॉ. लक्ष्‍मीकांत ने चौधरी चरण सिंह विश्‍वविद्यालय से बीएससी की थी. इसके बाद उन्‍होंने हरिद्वार के ऋषिकुल आयुर्वेद कॉलेज से बीएएमएस की पढ़ाई की थी.

Tags: Meerut news, UP BJP, Uttar Pradesh Assembly Elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर