मेरठ: इधर से उधर दौड़ाते रहे अस्पताल, गरीब महिला और उसके नवजात की इलाज के अभाव में मौत
Meerut News in Hindi

मेरठ: इधर से उधर दौड़ाते रहे अस्पताल, गरीब महिला और उसके नवजात की इलाज के अभाव में मौत
इस घटना को लेकर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी एक ट्वीट किया है.

आरोप है कि एक गर्भवती महिला को मेरठ मेडिकल कॉलेज (Meerut Medical College) ने भर्ती करने से इनकार कर दिया जिससे महिला ने इलाज के अभाव में बैलगाड़ी में दम तोड़ दिया. पहले नवजात बच्चे की मौत हुई फिर कुछ घंटों बाद महिला ने भी दम तोड़ दिया

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मेरठ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए रोजाना अधिकारियों को निर्देश दे रहे हैं. सीएम योगी टीम 11 के साथ रोजाना बैठक करते हैं लेकिन फिर भी सरकारी मशीनरी अपने ही ढर्रे पर चलने को आमादा है. इसका उदाहरण मेरठ मेडिकल कॉलेज में देखने को मिला. यहां आरोप है कि एक गर्भवती महिला को मेरठ मेडिकल कॉलेज (Meerut Medical College) ने भर्ती करने से इनकार कर दिया जिससे महिला ने इलाज के अभाव में बैलगाड़ी में दम तोड़ दिया. पहले नवजात बच्चे की मौत हुई फिर कुछ घंटों बाद महिला ने भी दम तोड़ दिया.

मृतक के परिजन मेडिकल कॉलेज का पर्चा दिखाते हैं और यह पूछे जाने पर कि ऐसी लापरवाही को लेकर वो क्या कार्रवाई चाहते हैं, तो गरीब परिवार सिर्फ यही कहता है कि साहब, हमारे साथ तो ऐसा हो गया किसी और के साथ ऐसा न हो.

इलाज में लापरवाही से महिला और उसके नवजात की मौत



बताया जा रहा है कि लॉकडाउन के बीच मेरठ के काशीपुर गांव से आई गर्भवती महिला इलाज के लिए तड़पती रही. तेजगढ़ी पर लोहे का सामान बनाने वाले एक परिवार की बेटी अनीता की शादी काशीपुर में हुई थी. किसी तरह काशीपुर से यह महिला मेरठ पहुंची थी. नवजात बच्चा दुनिया देखने से पहली ही इसे अलविदा कह गया. अभी नवजात का अंतिम संस्कार किया ही गया था कि मां भी आखिरी सांसें गिनने लगीं. आनन-फानन में परिवारवालों ने कभी एंबुलेंस के लिए फोन किया तो कभी अपनी बैलगाड़ी से अस्पतालों के चक्कर लगाए. किसी तरह से अपनी बैलगाड़ी से जब ये परिवार मेडिकल कॉलेज पहुंचा तो वहां यह कहकर भगा दिया गया कि जिला अस्पताल जाओ. जिला अस्पताल ने फिर मेडिकल कॉलेज जाने को कहा. परिवार को कुछ न समझ में आया तो वो एक झांड़ने-फूंकने वाले के पास पहुंच गए. इसी आपा-धापी में महिला ने बैलगाड़ी में ही दम तोड़ दिया.



इस संबंध में जब मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल से बात की गई तो उत्तर सिर्फ एक लाइन में मिला कि हमारे पास कोई कंप्लेंट नहीं है. कंप्लेंट आई तो जांच कराएंगे और कार्रवाई करेंगे.

इस मामले को लेकर अब सियासत शुरू हो गई है. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है.
First published: May 30, 2020, 5:13 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading