इस बुक बैंक में भरा है ज्ञान का खज़ाना, इन 4 राज्‍यों के गरीब स्‍टूडेंट्स उठाते हैं फायदा

इस बुक बैंक के विभिन्न केन्द्रों से बच्चे पुस्तक जारी कराकर ले जाते हैं और अब तक हजारों बच्चे इसका लाभ उठा चुके हैं.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 31, 2019, 9:31 PM IST
इस बुक बैंक में भरा है ज्ञान का खज़ाना, इन 4 राज्‍यों के गरीब स्‍टूडेंट्स उठाते हैं फायदा
इस बैंक की यूपी समेत कई राज्‍यों में शाखाएं हैं.
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 31, 2019, 9:31 PM IST
इस बैंक में भरा है ज्ञान का खजाना. क्या आप यकीन करेंगे कि कोई ऐसा भी बैंक हो, जहां सिर्फ और सिर्फ किताबें हों. सुनने में थोड़ा अजीब लगता है, लेकिन मेरठ में एक ऐसा बैंक है जहां हर ओर बस ज्ञान का उजियारा है. हम बात कर रहे हैं मेरठ स्थित एक बुक बैंक की. इस बैंक में चार लाख से ज्यादा किताबें गरीबों की ज़िन्दगी में उजाला भर रही हैं. इस बैंक से उन गरीब बच्चों की मदद की जाती है, जो गरीबी के चलते महंगी-महंगी किताबें नहीं खरीद सकते.

मेरठ का बुक बैंक समाज के लिए बना मिसाल
जी हां, उन्हें तालीम से प्यार है और तालीम के कद्रदानों से भी, लिहाजा माली तंगी किसी बच्चे की शिक्षा में रोड़ा न बने इसके लिए खड़ा कर दिया एक बैंक. किसी के बैंक खाते में लाखों रुपए हो सकते हैं, तो किसी के खाते में करोड़, लेकिन इनका बैंक ज्ञान के खजाने से मालामाल है. इसका लाभ उठा रहे साधनहीन बच्चे बुक बैंक की अहमियत समझते हैं और बुक बैंक उनकी. इन बच्चों को बुक बैंक की तरफ से नि:शुल्क किताबें उपलब्ध कराई जाती हैं.

मेरठ के विजयनगर निवासी अमिता ने महसूस किया कि बहुत से बच्चे किताबों के अभाव में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी नहीं कर पाते, लिहाजा उन्‍होंने इस कमी को अपने घर से पूरा करने का फैसला किया और नि:शुल्क प्रेरणा बैंक बनाया.अमिता के पास काफी प्रतियोगी परीक्षाओं की किताबें थीं, जिसे उन्होंने जरूरतमंद बच्चों को देना शुरु किया. दो साल पहले अमिता ने जो सिलसिला शुरु किया आज उसकी कई शाखाएं हैं और इस बैंक में चार लाख से ज्यादा किताबें बच्चों की ज़िन्दगी में ज्ञान का उजियारा फैला रही हैं. यकीनन प्रेरणा बुक बैंक यूपी से लेकर उत्तराखंड, दिल्ली और हरियाणा तक पहुंच चुका है. कुल छत्तीस शाखाएं अनगिनत विद्यार्थियों के लिए उम्मीदों का प्रवेश द्वार हैं.

मेरठ की अमिता शर्मा हैं इस बैंक की मालिकन.


ऐसे उठा सकते हैं लाभ
इस बुक बैंक के विभिन्न केन्द्रों से बच्चे पुस्तक जारी कराकर ले जाते हैं. हज़ारों बच्चे इस नि:शुल्क बुक बैंक का लाभ उठा चुके हैं. यहां से बच्चों को एकेडमिक पुस्तकों के अलावा प्रतियोगी परीक्षा की किताबें उपलब्ध कराई जाती हैं. जबकि तमाम गरीब युवक और युवतियां इस बैंक का लाभ उठाकर प्रतियोगी परीक्षा पास कर आत्मनिर्भर बन चुके हैं. इस बैंक का लाभी उठाकर कई छात्र बैंक, रेलवे, आर्मी, सरकारी एजेंसियों में नौकरी कर रहे हैं. ऐसे युवक नौकरी से जब छुट्टी पर आते हैं तो अमिता से जरूर मिलते हैं.
Loading...

इस बैंक का लाभ उठाकर कई छात्र बैंक, रेलवे, आर्मी, सरकारी एजेंसियों में नौकरी कर रहे हैं.


अमिता बताती हैं कि मोदीनगर में पढ़ाई के दौरान गरीब बच्चों को उनका हक दिलाने का ख्याल आया. शुरू में घर से ही उन्हें किताबें मुहैया कराना शुरु किया. शादी के बाद लगा कि सब कुछ खत्म हो जाएगा, लेकिन पति संजय शर्मा के प्रोत्साहन से बुक बैंक बना तो ये ख्वाब हकीकत में बदल गया.

सभी के लिए प्रेरणा बना बैंक
गरीब बच्चों को शिक्षा का अधिकार दिलाने के लिए खोले गए इस बुक बैंक के कई केन्द्र खुल चुके हैं. अब बहुत सारे प्रोफेसर, शिक्षक समेत अन्य प्रोफेशनल भी किताबें लेने के लिए बुक बैंक पहुंचते हैं. मजेदार बात ये है कि उन्हें भी नि:शुल्क किताबें उपलब्ध कराई जाती हैं. आर्थिक तंगी के चलते शिक्षा से वंचित रह जाने वाले युवाओं के लिए यह बुक बैंक महज लाइब्रेरी नहीं प्रेरणा भी है.

ये भी पढ़ें- नई नवेली दुल्हन को चलती ट्रेन से धक्का देकर खुद भी कूद गया पति
आजम के बेटे के समर्थन में सड़क पर उतरी सपा, जमकर प्रदर्शन
First published: July 31, 2019, 8:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...