प्रधानमंत्री मोदी ने अक्षय पात्र की '300 करोड़वीं' थाली में परोसा खाना, वीडियो वायरल

पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार ने बचपन के आसपास मजबूत सुरक्षा घेरा बनाने का प्रयास किया है. इस सुरक्षा के तीन पहलू हैं, खानपान, टीकाकरण और स्वच्छता.

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 12, 2019, 4:02 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: February 12, 2019, 4:02 PM IST
मेरठ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अक्षय पात्र फाउंडेशन के कार्यक्रम में गरीब बच्चों को भोजन परोसा. इस फाउंडेशन द्वारा गरीब बच्चों को 300 करोड़वीं थाली के उपलक्ष्य में आयोजित किया गया था. बच्‍चों को खाना परोसने का वीडियो काफी शेयर भी किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने लाखों गरीब बच्चों को भोजन उपलब्ध करने के लिए अक्षय पात्र फाउंडेशन को साधुवाद और शुभकामना दी. मोदी ने गीता के श्वलोक का उदाहण देते हुए कहा कि जो दान कर्तव्य समझकर उचित समय और योग्य व्यक्ति को दिया जाता है, उसे सात्विक दान कहते हैं. कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने स्वच्छता और स्वस्थ बचपन पर जोर दिया.

पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार ने बचपन के आसपास मजबूत सुरक्षा घेरा बनाने का प्रयास किया है. इस सुरक्षा के तीन पहलू हैं, खानपान, टीकाकरण और स्वच्छता. अब बदली परिस्थितियों में पोषकता के साथ, पर्याप्त और अच्छी गुणवत्ता वाला भोजन बच्चों को मिले, ये सुनिश्चित किया जा रहा है.



मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य का सीधा संबंध पोषण से है, यदि हम पोषण के अभियान को हर माता तक पहुंचाने में सफल हुए तो अनेक जीवन बच जाएंगे. इसी सोच के साथ हमारी सरकार ने पिछले वर्ष राजस्थान के झुंझनूं से देशभर में राष्ट्रीय पोषण मिशन की शुरुआत की थी.

प्रधानमंत्री ने बताया कि हमने टीकाकरण अभियान को मिशन मोड में चलाने का फैसला किया. मिशन इंद्रधनुष से देश में लगभग 3 करोड़ 40 लाख बच्चों और 90 लाख गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया गया है. जिस गति से काम हुआ है, उससे तय है कि सम्पूर्ण टीकाकरण का हमारा लक्ष्य अब दूर नहीं है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब बच्चों के स्वास्थ्य की बात होती थी तो मां के दुख तकलीफ को नजर अंदाज कर दिया जाता था, लेकिन अब इस स्थिति को बदलने का प्रयास किया जा रहा है. गौ माता के दूध का कर्ज इस देश के लोग नहीं चुका पाएंगे. गाय हमारी संस्कृति और परंपरा का महत्वपूर्ण हिस्सा रही है.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है कि पोषकता के साथ, अच्छी गुणवत्ता वाला भोजन बच्चों को मिले. जैसे मजबूत इमारत के लिए नींव का ठोस होना जरूरी है. वैसे ही विकसित देश के लिए शक्तिशाली और पोषित बचपन का होना जरूरी है. मोदी ने कहा कि इस बार प्रयागराज कुम्भ के मेले ने देश को स्वच्छता का संदेश देने में सफलता पाई है. आम तौर पर कुम्भ में नागा बाबाओं की चर्चा होती है, पहली बार न्यूयॉर्क टाइम्स ने कुम्भ की स्वच्छता को लेकर रिपोर्ट छापी है.
Loading...

ये भी पढ़ें -
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...