होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Meerut Jail: मोबाइल स्नैचिंग के जुर्म में जेल में बंद कैदी बना 'स्‍टार', रैप सुन सभी हुए भावुक

Meerut Jail: मोबाइल स्नैचिंग के जुर्म में जेल में बंद कैदी बना 'स्‍टार', रैप सुन सभी हुए भावुक

Meerut District Jail: मेरठ जिला कारागार में 15 अगस्त के अवसर पर कैदियों ने कई सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए. इस दौरान कैदी आदेश का रैप सुनकर सभी लोग भावुक हो गए. जानें और क्‍या था खास?

रिपोर्ट- विशाल भटनागर

मेरठ. समय के साथ मेरठ जेल ( Meerut jail) का नजारा भी बदलते हुए दिखाई दे रहा है. श्रीमद्भागवत गीता के ज्ञान के माध्यम से मेरठ जेल के कैदियों में बदलाव लाने के लिए अनोखी पहल की जा रही है. इसी कड़ी में 15 अगस्त के दिन जेल अधीक्षक राकेश कुमार के निर्देशन में कैदियों द्वारा कई कार्यक्रम किए गए.

मेरठ जेल के कैदियों द्वारा आकर्षक पेंटिंग्स, रैप, बैंड-बाजा समेत कई कार्यक्रम किए गए. इसमें सबसे खास जो था वो है कैदी आदेश द्वारा गाया गया रैप. जिसे आदेश ने खुद तैयार किया था और थीम जेल के जीवन को चुना था. रैप के जरिए आदेश ने बताया कि कैसे व्यक्ति गुनाह की तरफ मुड जाता है. अपने परिवार से दूर जाकर क्या-क्या दर्द सहन करता है. आदेश के रैप ने सभी को भावुक कर दिया. कैदियों के गाना इतना पसंद आया कि सभी एक साथ वन्स मोर-वन्स मोर की डिमांड करने लगे.

मोबाइल स्नैचिंग की सजा काट रहा आदेश
आदेश वर्ष 2019 से जेल में बंद है. जेल में आने से पहले आदेश न्यू थिंक डांस कंपनी के नाम से इंस्टिट्यूट चलाता था, लेकिन अब मोबाइल स्नैचिंग मामले में जेल में बंद है. हालांकि उसका केस ट्रायल पर चल रहा है.

जागरूकता का भी दिया संदेश
इस गाने के माध्यम से उन सभी लोगों को भी यह भी संदेश दिया, जो गुनाह का रास्ता चुनते हैं. उनके लिए गुनाह करना तो आसान होता, लेकिन कैसे पूरा जीवन बर्बाद हो जाता है. उसकी पूरी कहानी बयां की.

कैदियों में सकारात्मक बदलाव की पहल
NEWS 18 LOCAL से बातचीत करते हुए जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत सांस्कृतिक कार्यक्रम जेल में आयोजित किए गए थे. इसी कार्यक्रम के दौरान बंदी आदेश द्वारा यह गीत सुनाया गया. उन्होंने बताया कि कैदियों में सकारात्मक बदलाव आए. इसके लिए जिला कारागार में इस तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

Tags: Azadi Ka Amrit Mahotsav, Independence day, Meerut news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर