#BharatBandh: मेरठ में 3500 प्राइवेट बसों के संचालन पर लगा ब्रेक

निजी बस ऑपरेटर्स का कहना है कि पेट्रोल और डीजल के दाम में बेतहाशा बढ़ोतरी की वजह सिर्फ अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी नहीं बल्कि सरकार की नीतियां जिम्मेदार है.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 1:44 PM IST
#BharatBandh: मेरठ में 3500 प्राइवेट बसों के संचालन पर लगा ब्रेक
निजी बस
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 1:44 PM IST
पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत को लेकर कांग्रेस द्वारा सोमवार को बुलाए गए भारत बंद के मद्देनजर यूपी के मेरठ में 3500 प्राइवेट बसों का संचालन बंद कर दिया गया है, निजी बस ऑपरेटर्स ने बंद का समर्थन किया है. मेरठ के सबसे बड़े प्राइवेट बस अड्डे "मवाना बस अड्डा" पर यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. कांग्रेस कार्यकर्ता कमिश्नरी चौराहे पर प्रदर्शन कर रहे हैं. बता दें कि भारत बंद का उत्तर प्रदेश में मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है.

जगह-जगह विपक्षी दल मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. निजी बस ऑपरेटर्स का कहना है कि पेट्रोल और डीजल के दाम में बेतहाशा बढ़ोतरी की वजह सिर्फ अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमत में बढ़ोतरी नहीं बल्कि सरकार की नीतियां जिम्मेदार है. मेरठ महानगर के सभी प्रमुख चौराहों से लेकर शहर से बाहर जाने वाले मुख्य मार्गों पर भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया, लेकिन कांग्रेस की ओर को बंद कराने का कोई खास प्रयास नहीं किया गया.

संयुक्त व्यापार संघ, पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन, निजी स्कूलों के संगठनों से भारत बंद को समर्थन नहीं मिलने के कारण बंद नहीं हो पाया. साप्ताहिक बंदी वाले बाजारों को छोड़कर सभी बाजार खुले रहे.वहीं प्रदर्शन को देखते हुए पूरे शहर में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद है. जगह-जगह शहर में रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) के जवान तैनात हैं. इनके अलावा पुलिस भी मुस्तैद है.

ये भी पढ़ें:

LIVE: कांग्रेस के भारत बंद का यूपी में दिख रहा मिला जुला असर

तस्वीरों में देखिए आखिर क्यों बजा अमेरिका के 'वाइट हाउस' में कानपुर का डंका

अखिलेश यादव ने कहा- घमंड में चूर है बीजेपी सरकार, चुनाव में जनता सबका सिखा देगी
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर