Home /News /uttar-pradesh /

मेरठ के भैंसाली मैदान में बिना शराब का सेवन किए खड़ा नहीं होता रावण का पुतला!

मेरठ के भैंसाली मैदान में बिना शराब का सेवन किए खड़ा नहीं होता रावण का पुतला!

भैंसाली

भैंसाली मैदान में दहन के लिए खड़े किए गए रावण, मेघनाथ कुंभकरण के पुतले

पश्चिम उत्तर प्रदेश के मेरठ का इतिहास पौराणिक कथाओं में काफी निराला है. इसी तरीके से एक रोचक मान्यता के बारे में आज बताएंगे.लेकिन क्या आप यकीन करेंगे कि बिना शराब का सेवन किए रावण का पुतला खड़ा नहीं हो सकता. जी हां यह कहना है मेरठ भैंसाली रामलीला कमेटी के सदस्यों का.

अधिक पढ़ें ...

    मेरठः-विजयदशमी के पावन पर्व पर देश भर में बुराई के प्रतीक रावण के पुतले को दहन किया जाता है. लेकिन क्या आप यकीन करेंगे कि बिना शराब का सेवन किए रावण का पुतला खड़ा नहीं हो सकता. जी हां यह कहना है मेरठ भैंसाली रामलीला कमेटी के सदस्यों का. न्यूज़-18 लोकल की टीम से बातचीत करते हुए कमेटी के अध्यक्ष, महामंत्री ने बताया कि कई वर्षों का इतिहास है कि जब तक रावण के पुतले को शराब ना पिलाई जाए. तब तक रावण का पुतला खड़ा नहीं होता

    कई बार किया प्रयास नहीं मिली सफलता
    आयोजकों की माने तो तीन चार बार ऐसा प्रयास किया गया. ताकि रावण के पुतले को बिना शराब के सेवन कराए ही खड़ा किया जाए. लेकिन पुतला खडा नहीं हो पाया. जैसे ही टीम द्वारा पुतले को खड़े करने की कोशिश की जाती है. उसके तुरंत बाद पुतला गिर जाता है. ऐसे में कई वर्षों से चलते आ रही परंपरा के अनुसार रावण के पुतले के चरणों में शराब डाली जाती है. उसके बाद ही रावण का पुतला खड़ा होता है. गौरतलब है कि मेरठ के भैंसाली मैदान में सबसे बड़ी रामलीला का आयोजन होता है. मान्यता है कि जिस मैदान में अब रामलीला का मंचन व  दशहरे में रावण का दहन होता है.वहां पहले सरोवर होता था और मंदोदरी उस में स्नान किया करती थी.

    रिपोर्ट
    विशाल भटनागर
    मेरठ

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर