RLD ने किया ऐलान, समाजवादी पार्टी के साथ आगे भी 'गठबंधन' जारी रहेगा

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से भाजपा को 62 और सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को 15 सीट मिली. इनमें 10 सीट बसपा को जबकि पांच सीट सपा को मिली. दोनों दल 2014 में अलग-अलग चुनाव लड़े थे और इसमें सपा को 5 और बसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी.

News18Hindi
Updated: June 7, 2019, 1:46 PM IST
RLD ने किया ऐलान, समाजवादी पार्टी के साथ आगे भी 'गठबंधन' जारी रहेगा
चौधरी अजित सिंह, मायावती और अखिलेश यादव (PTI)
News18Hindi
Updated: June 7, 2019, 1:46 PM IST
उत्तर प्रदेश में सियासी महाभारत थम नहीं रहा है. समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) के आगामी उपचुनावों में अकेले मैदान में उतरने के फैसले के एक दिन बाद ही राष्ट्रीय लोक दल (RLD) ने शुक्रवार को बड़ा ऐलान कर दिया है. राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दूबे ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि भले ही बसपा सुप्रीमो मायावती नें सपा का साथ छोड़ दिया हो, लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले सपा के साथ आई आरएलडी आगे भी समाजवादी पार्टी के साथ रहेगी.

उन्होंने कहा कि आरएलडी ने सपा के साथ और सपा ने बसपा से गठबंधन किया था. अनिल दूबे के मुताबिक आरएलडी ने सीधे बसपा के साथ गठबंधन नहीं किया था. इसलिये लोकसभा चुनाव के बाद भी आरएलडी सपा के साथ है, और आगे भी मिलकर अपनी अगली रणनीति बनायेगी.

राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दूबे


ऐसे रहे थे सपा-बसपा के ऐतिहासिक गठबंधन का नतीजा

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से भाजपा को 62 और सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को 15 सीट मिली. इनमें 10 सीट बसपा को जबकि पांच सीट सपा को मिली. दोनों दल 2014 में अलग-अलग चुनाव लड़े थे और इसमें सपा को 5 और बसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी.

वहीं, भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने सपा बसपा के अपने बलबूते उपचुनाव लड़ने पर चुटकी लेते हुए कहा कि इस बेमेल गठबंधन का यही अंजाम होना था.

मायावती की सपा को नसीहत
Loading...

मायावती ने सपा को नसीहत देते हुये कहा, ‘‘ उन्हें (सपा कार्यकर्ताओं) हर हाल में खुद को बसपा के कैडर की तरह ही, तैयार होने के साथ भाजपा की घोर जातिवादी, सांप्रदायिक और जनविरोधी नीतियों से उत्तर प्रदेश, देश और समाज को मुक्ति दिलाने के लिये अधिक कठोर संघर्ष करते रहने की सख्त जरूरत है.’’

मायावती ने लोकसभा चुनाव के परिणाम में ईवीएम की विश्वसनीयता पर भी संदेह व्यक्त किया. उन्होंने कहा, ‘‘यह चुनाव परिणाम हमें सोचने पर मजबूर करता है. हालांकि उत्तर प्रदेश में जनअपेक्षा के विपरीत आये चुनाव परिणाम में ईवीएम की भूमिका भी खराब रही है. यह भी किसी से छुपा नहीं है.’’ (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

SP-BSP पर BJP विधायक का तंज, कहा- 'योगी' जैसे हनुमान को कोई नहीं रोक सकता

बच्ची से रेप और हत्या के मामले में प्रियंका गांधी बोलीं, हमारा समाज क्या बन गया है?

आज अयोध्या में भगवान राम की प्रतिमा का अनावरण करेंगे CM योगी, जानिए पूरा शेड्यूल

फिरोजाबाद पुलिस का 'अमानवीय' चेहरा, महिला की लाश को JCB से लेकर पहुंची अस्पताल

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 7, 2019, 1:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...