वीडियो दिखाने में फंसे संगीत सोम ने कहा-जांच के बाद सच आएगा सामने
Meerut News in Hindi

वीडियो दिखाने में फंसे संगीत सोम ने कहा-जांच के बाद सच आएगा सामने
मेरठ की सरधना विधानसभा सीट से विधायक और बीजेपी प्रत्याशी संगीत सोम ने कहा है कि उनके पास डाक्यूमेंट्री दिखाने की अनुमति थी और उसमे ऐसा कुछ भी विवादित नहीं था.

मेरठ की सरधना विधानसभा सीट से विधायक और बीजेपी प्रत्याशी संगीत सोम ने कहा है कि उनके पास डाक्यूमेंट्री दिखाने की अनुमति थी और उसमे ऐसा कुछ भी विवादित नहीं था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2017, 1:53 PM IST
  • Share this:
मेरठ की सरधना विधानसभा सीट से विधायक और बीजेपी प्रत्याशी संगीत सोम ने कहा है कि उनके पास डाक्यूमेंट्री दिखाने की अनुमति थी और उसमे ऐसा कुछ भी विवादित नहीं था.

आचार संहिता उल्लंघन मामले में फंसे संगीत सोम ने कहा कि वीडियो क्लिप में सिर्फ न्यूज़ चैनलों की फुटेज थी. उसमें वही दिखाया जा रहा था जो की सच था.

सोम ने मीडिया से कहा कि उन्हें भी टीवी चैनलों पर दिखने से पहले सत्यता की जांच कर लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग की जांच के बाद सारा सच सामने आ जाएगा.



उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर दनोगों में उन्हें आरोपी बनाया गया लेकिन तीन साल से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी उन पर चार्जशीट दर्ज नहीं की गई. यह दिखाता है कि उन्हें झूठे तरीके से फंसाया गया. यही कुछ उस सीडी में भी था.
क्या है मामला?

दरअसल मेरठ की सरधना विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक संगीत सिंह सोम के गांव फरीदपुर में मंगलवार को उनकी प्रचार गाड़ी का विरोध कुछ ग्रामीणों ने किया. ग्रामीणों ने वाहन में लगी एलसीडी पर विवादित वीडियो क्लिप चलाने का आरोप लगते हुए इसकी शिकायत अधिकारियों से भी की. शिकायत पर गांव पहुंची पुलिस ने वीडियो क्लिप की कॉपी ले ली. इसके बाद  विधायक संगीत सोम सहित दो अन्य समर्थकों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है

बता दें बीते कुछ दिनों से विधायक संगीत सोम की प्रचार गाड़ी क्षेत्र में घूम रही थी, जिसके माध्यम से उनके विधायक बनने के बाद के राजनीतिक सफर की वीडियो क्लिप एलसीडी पर चलाई जा रही थी. इसमें मुजफ्फरनगर दंगा, विधायक की गिरफ्तारी, खेड़ा महापंचायत, बिसाहड़ा कांड और अखलाक हत्याकांड समेत अन्य मुद्दों की क्लिप भी शामिल हैं. उक्त वीडियो क्लिप में विधायक को हीरो की तरह पेश किया गया है.

मंगलवार को प्रचार वाहन विधायक के अपने गांव फरीदपुर पहुंचा था. कुछ ग्रामीणों ने वीडियो क्लिप का विरोध कर पुलिस को सूचना दी. इंस्पेक्टर मनोज कुमार मिश्र गांव पहुंचे और प्रचार वाहन पर चलाई जा रही वीडियो क्लिप की कॉपी लेकर लौट गए. एसडीएम राकेश कुमार सिंह ने बताया कि भाजपा के प्रचार वाहन पर वीडियो क्लिप चलाने की अनुमति नहीं थी. जिसके चलते सम समेत दो लोगो पर आचार सहिंता का मुकदमा भी दर्ज किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading