Home /News /uttar-pradesh /

चश्मे का ना बढ़े नंबर इसीलिए इन बातों का रखें विशेष ध्यान

चश्मे का ना बढ़े नंबर इसीलिए इन बातों का रखें विशेष ध्यान

चश्मे

चश्मे का नंबर बढ़ने पर आंखों का चेकअप कराने आए मरीज

डिजिटल गैजेट्स हमारी आंखों के लिए घातक भी साबित हो रहे हैं.ऑनलाइन क्लासेज के बाद से बच्चों की आंखों में काफी असर देखने को मिल रहा है.डिजिटल गैजेट्स से निकलने वाली ब्लू रोशनी आंखों की सेहत के लिए काफी हानिकारक होती है.

    मेरठः-बदलते दौर में जहां हम लोग डिजीटल प्लेटफार्म का उपयोग कर काम को आसान बना रहे हैं. वहीं डिजिटल गैजेट्स  हमारी आंखों के लिए घातक भी साबित हो रहे हैं. इसी बात को लेकर न्यूज़ 18  लोकल की टीम ने नेत्र रोग विशेषज्ञ से खास बातचीत की. जहां  कोविड- 19 के बाद आंखों की बीमारियों को लेकर बात की गई. वही किस तरीके से आंखों का बचाव किया जा सके उसको लेकर भी विशेष जानकारी दी गई.
    ज्यादा देर तक लगातार ना करें स्क्रीन का उपयोग 
    नेत्र रोग विशेषज्ञ डा. प्रियंक गर्ग की माने तो ऑनलाइन क्लासेज के बाद से बच्चों की आंखों में काफी असर देखने को मिल रहा है. घंटों तक जहां बच्चे लगातार ऑनलाइन कक्षा में अध्ययन करते हैं.उसके बाद गेम सहित अन्य माध्यमों के लिए भी मोबाइल का उपयोग करते हैं.आंखों की जो क्षमता होती है वह कमजोर होने लगती है.जिस कारण समय से पहले बच्चों के चश्मा लग रहा है. इतना ही नही डिजिटल गैजेट्स का उपयोग करने के कारण आम तुलना में चश्मे का नंबर भी तीव्र गति से बढ़ता जा रहा है.

    ब्लू रोशनी को कंट्रोल कर उजाले में ही करें काम 
    आज के युवाओं की बात की जाए तो अधिकतर युवा कमरे की लाइट ऑफ करने के बाद मोबाइल या लैपटॉप पर काम करते हैं.जबकि डिजिटल गैजेट्स से निकलने वाली ब्लू रोशनी आंखों की सेहत के लिए काफी हानिकारक होती है. ऐसे में लोगों को एहतियात बरतनी जाहिए कि जब भी मोबाइल पर कार्य करें वह लोग कमरे की लाइट स्विच ऑन रख कर ही स्क्रीन का उपयोग करें. साथ ही लगातार लंबे समय तक डिजिटल गैजेट्स पर काम करने से बचना चाहिए.
    गौरतलब है कि कोविड-19 के बाद आंखों से संबंधित बीमारियों में काफी इजाफा देखा जा रहा है.

    रिपोर्ट
    विशाल भटनागर
    मेरठ

    Tags: Meerut news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर