Home /News /uttar-pradesh /

देखिए मेरठ के बुढ़ाना गेट स्थित गजक बाजार में एक नहीं बल्कि इतनी तरह की गजक लोगों को बना रही है दीवाना

देखिए मेरठ के बुढ़ाना गेट स्थित गजक बाजार में एक नहीं बल्कि इतनी तरह की गजक लोगों को बना रही है दीवाना

X

सर्दियों (Winter) के मौसम में अगर आपने मेरठ की गजक Gajak का स्वाद नहीं चखा तो मानिए सब कुछ अधूरा सा है.जी हां क्योंकि सर्दियों के मौसम में पश्चि?

    सर्दियों (Winter) के मौसम में अगर आपने मेरठ की गजक Gajak का स्वाद नहीं चखा तो मानिए सब कुछ अधूरा सा है.जी हां क्योंकि सर्दियों के मौसम में पश्चिम उत्तर प्रदेश West up के मेरठ Meerut शहर से बड़ी तादात में गजक अन्य शहरों के लिए सप्लाई की जाती है.सर्दियों के मौसम में जैसे मूंगफली, रेवड़ी की डिमांड होती है. उसी तरह से मेरठ की गजक की खरीदारी भी जमकर की जाती है.जिसके लिए मेरठ का बुढ़ाना गेट बाजार गजक की खरीद के लिए मशहूर है.

    यहां मिलती है 35 तरह की गजक
    अगर हम गजक की बात करें तो यहां एक तरह की नहीं बल्कि 35 वैरायटी की गजक आपको देखने को मिलेगी.तिल की गजक, गुड़ की गजक, चीनी की गजक, मलाई गजक, आगरा गजक, गज्जक रोल सहित अन्य प्रकार की गजक आपको देखने को मिलेंगी. जो गजक प्रेमियों को काफी पसंद आ रही हैं.

    कोरोना की तीसरी लहर का गजक बाजार पर भी असर

    मेरठ के बुढ़ाना गेट की बात की जाए तो हर साल बड़ी संख्या में लोग यहां से गजक की खरीदारी करते हैं. इतना ही नहीं यहां की गजक बड़ी संख्या में ऑर्डर पर पैक करके भेजी जाती है.लेकिन कोरोना की तीसरी लहर का अबकी बार कारोबार पर असर देखने को मिल रहा है.न्यूज-18 लोकल NEWS-18 LOCAL मेरठ की टीम से बातचीत करते हुए गजक भंडार के संचालक संदीप रेवड़ी ने बताया कि 100 सालों से गजक का यहां से व्यापार चल रहा है.लेकिन इस बार बाजार में कोरोना का काफी असर देखने को मिल रहा है.हर साल अन्य शहरों के खरीदार गजक का आर्डर देने और खरीदने के लिए यहां आते थे.लेकिन उसमें गिरावट देखने को मिल रही है.आप को बताते चलें कि मेरठ में लगभग 100 साल पहले गजक के कारोबार की शुरुआत रामचंद्र सहाय ने की थी.

    रिपोर्ट विशाल भटनागर. मेरठ

    Tags: Meerut news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर