लाइव टीवी

CAA के समर्थन में उतरे बुजुर्ग, तिरंगे व बैनर के साथ निकाली रैली

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 6, 2020, 6:34 PM IST
CAA के समर्थन में उतरे बुजुर्ग, तिरंगे व बैनर के साथ निकाली रैली
CAA के समर्थन में मेरठ में बुजुर्गों ने निकाली रैली

CAA के समर्थक इन बुजुर्गों का एक सुर में यही कहना है जो लोग शाहीनबाग में इस कानून का विरोध कर रहे हैं वो गलत कर रहे हैं. वहां जो हो रहा है वो राष्ट्रविरोधी कृत्य है...

  • Share this:
मेरठ. सीएए के समर्थन में सड़कों पर जनपद के बुजुर्ग उतर आए हैं. CAA समर्थक इन सीनियर सिटीजन्स (Senior citizens) का कहना है कि जो शाहीनबाग (Shaheen Bagh) में हो रहा है वो राष्ट्रविरोधी कृत्य. साथ ही लोगों ने प्रधानमंत्री (Prime Minister) और राष्ट्रपति (President) से अराजक तत्वों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की. मेरठ में लगातार सीएए के समर्थन को लेकर अलग-अलग आयु वर्ग के लोग अपनी-अपनी आवाज़ बुलंद कर रहे हैं. इसी कड़ी में आज बुजुर्ग हाथों में तिरंगा झंडा लेकर सीएए के समर्थन में बैनर और तख्तियां लेकर सड़क पर उतरे.

समस्या का हल निकलना चाहिए
CAA के समर्थक इन बुजुर्गों का एकसुर में यही कहना है जो लोग शाहीनबाद में इस कानून का विरोध कर रहे हैं वो गलत कर रहे हैं. वहां जो हो रहा है वो राष्ट्रविरोधी कृत्य है. CAA के समर्थन में रैली निकालने के बाद इन बुजुर्गों ने डीएम को ज्ञापन देकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से मांग की कि जनता को परेशान करने वाले अराजक तत्वों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए. बुजुर्गों ने कहा कि जिस तरह से शाहीनबाद में पिछले कई दिनों से प्रदर्शन हो रहा है, वो अराजकता ही है क्योंकि बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे है, लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही है. ऐसे में अब प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को इसे लेकर कोई हल निकालना चाहिए.

CAA, meerut
CAA के समर्थन में बुजुर्गों की रैली


ये बुजुर्ग जब हाथों में तख्तियां-बैनर लेकर सड़क पर निकले तो लोग आश्चर्यचकित हो गए. क्योंकि कई बुजुर्ग ऐसे थे. जिन्हें चलने में भी तकलीफ हो रही थी, किसी को घुटने में दर्द की शिकायत थी तो कोई बीपी का पेशेंट तो किसी को शुगर की बीमारी लेकिन ये बुजुर्ग अपनी बीमारी की परवाह न करते हुए आज सड़क पर उतरे. News 18 संवाददाता ने जब कुछ बुजुर्गों से बात की तो बात करते वक्त भी उनकी सांसे फूल रही थी. लेकिन वो सीएए के समर्थन कर नारेबाज़ी करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद करते रहे. कुछ बुजुर्ग तो अपने साथ अपने घर के बच्चों को भी लेकर आए थे जिससे कि उन्हें कोई समस्या हो तो वो उनको संभाल सकें.

सड़कों पर उतरे इन बुजुर्गों की सबसे ज्यादा नाराज़गी शाहीनबाग में सीएए का विरोध करने वालों को लेकर थी. एक बुजुर्ग का कहना था कि 'शाहीनबाग में ऐसा धरना प्रदर्शन बताता है कि लोग इस कानून के बारे में ठीक से बिना जाने समझे कौवा कान ले गया कि कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं'. गौरतलब है कि कल मुस्लिम महिलाओं ने भी हाथों में मेहंदी रचाकर सीएए का समर्थन किया था. इन मुस्लिम महिलाओं ने भी एक सुर में यही कहा था कि ये क़ानून देशहित में है. सीएए का कानून नागरिकता देने का कानून है न कि नागरिकता लेने का.

ये भी पढ़ें- प्रयागराज में CAA के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन जारी, पीएम मोदी की अपील भी बेअसर

अलीगढ़ के शाहजमाल में CAA के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन जारी, पुलिस ने किया केस दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 6:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर