Home /News /uttar-pradesh /

shri krishna janmashtami 19 august phool bangla ready for laddu gopal in aughadnath temple nodark

Janmashtami: लड्डू गोपाल के लिए औघड़नाथ मंदिर में तैयार हुआ फूल बंगला, खास है यहां की जन्माष्टमी

Krishna Janmashtami 2022: पश्चिम उत्तर प्रदेश के मेरठ कैंट स्थित औघड़नाथ मंदिर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर भव्य रूप से तैयारियां की गई हैं. एक तरफ जहां भगवान श्री कृष्ण के जन्म उत्सव को लेकर एलईडी के माध्यम से सभी भक्तों को श्री कृष्ण लीला के बारे में दिखाया जाएगा, वहीं दूसरी ओर छोटे बच्‍चों को गिफ्ट में बांसुरी मिलेगी.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- विशाल भटनागर

मेरठ. देश-विदेश में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को धूमधाम से मनाने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. कहीं पाठ, कहीं रासलीला, तो कहीं भजन-कीर्तन के कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं. इस कड़ी में मेरठ कैंट स्थित औघड़नाथ मंदिर परिसर (Augarnath Temple campus) स्थित भगवान श्रीकृष्ण मंदिर में भी एक जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) पर्व को धूमधाम से मनाने की तैयारी की गई है. विशेष रूप से भगवान श्री कृष्ण के लिए फूलों से बंगला तैयार किया जा रहा है. इसके लिए कोलकाता सहित अन्य राज्यों से विशेष रूप से फूलों को मंगाया गया है. इतना ही नहीं इस फूल के बंगले को तैयार करने के लिए भी वृंदावन के कलाकारों को बुलाया गया है.

औघड़नाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष डॉ महेश कुमार बंसल ने News18 Local से खास बातचीत करते हुए बताया कि आज (गुरुवार 18 अगस्त) शाम 5:00 बजे से कार्यक्रम का शुभारंभ होगा. साथ ही जानकारी देते हुए बताया कि पंचांग के अनुसार रात को 11:30 बजे लड्डू गोपाल का अभिषेक कर विधि विधान के साथ पूजन होगा.वहीं, जन्माष्टमी पर प्रसाद वितरण किया जाएगा.

छोटे कान्हा को मिलेंगी बांसुरी
मंदिर के कार्यक्रम में जो भी छोटे-छोटे बच्चे कान्हा के रूप में पहुंचेंगे. उन सभी को मंदिर प्रशासन की तरफ से बांसुरी भेंट की जाएगी. इसके लिए बांसुरी मंगा ली गई है.

श्रीकृष्ण जन्म लीला का होगा प्रसारण
मंदिर में अधिक श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए मंदिर प्रशासन द्वारा विभिन्न एलईडी पर भगवान श्रीकृष्ण के जन्म लीला को भव्य रूप से दिखाया जाएगा. इतना ही नहीं विशेष रूप से लाइटिंग में भी भगवान श्री कृष्ण के जन्म से लेकर कंस वध तक की प्रत्येक लीलाओं को दर्शाया जाएगा.

भगवान श्रीकृष्ण जी की आरती
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की,आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।
गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला,श्रवण में कुंडल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।
गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली,लटन में ठाढ़े बनमाली भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक।
चंद्र सी झलक, ललित छवि श्यामा प्यारी की,श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की, आरती कुंजबिहारी की।
कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं,गगन सों सुमन रासि बरसै, बजे मुरचंग।
मधुर मिरदंग ग्वालिन संग, अतुल रति गोप कुमारी की,श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की, आरती कुंजबिहारी की।
जहां ते प्रकट भई गंगा, सकल मन हारिणि श्री गंगा,स्मरन ते होत मोह भंगा, बसी शिव सीस।जटा के बीच, हरै अघ कीच, चरन छवि श्रीबनवारी की,श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की, आरती कुंजबिहारी की।
चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू,चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू।
हंसत मृदु मंद, चांदनी चंद,कटत भव फंद, टेर सुन दीन दुखारी की।श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की, आरती कुंजबिहारी की।
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की, आरती कुंजबिहारी की।।

बताते चलें कि वैसे तो औघड़नाथ मंदिर के कपाट तो सुबह 4:30 बजे खोल दिए जाते हैं, लेकिन जन्माष्टमी के अवसर पर कार्यक्रम के आयोजन को लेकर शाम 5:00 बजे से किया जाएगा.

Augharnath Temple

Tags: Lord krishna, Meerut news, Sri Krishna Janmashtami

अगली ख़बर