मेरठ में पीएम मोदी को भगवान मानते हैं स्ट्रीट वेंडर्स, बोले- बदल गई जिंदगी

मेरठ में पीएम मोदी को भगवान मानते हैं स्ट्रीट वेंडर्स
मेरठ में पीएम मोदी को भगवान मानते हैं स्ट्रीट वेंडर्स

मेरठ (Meerut) में भी स्ट्रीट वेंडर ही ज्यादा लाभान्वित हुए हैं. आज इस योजना का लाभ उठाते हुए लोग अपना खुद का कारोबार कर इस कोरोना (Corona virus) काल को मात दे रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 3:24 PM IST
  • Share this:
मेरठ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने मंगलवार को पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना (PM Street Vendor Atma Nirbhar Yojna) के तहत मेरठ (Meerut) के लाभार्थियों से वर्चुअल संवाद किया. मेरठ के नगर निगम स्थित टाउनहाल में आयोजन हुआ. पीएम ने स्ट्रीट वेंडर्स को संबोधित किया. इस दौरान स्ट्रीट वेंडर्स को ऋण वितरित किया गया. पीएम के संबोधन के बाद न्यूज 18 से बातचीत में लाभार्थियों ने कहा कि ये योजना उनकी जिंदगी बदल देगी और प्रधानमंत्री उनके लिए भगवान की तरह हैं.

मेरठ में स्वनिधि योजना के तहत करीब 14 हजार लोगों ने आवेदन किया था. जिसमें से 7359 लोगों के आवेदन स्वीकार किए गए. इनमें से 5357 लोगों के खाते में 10 हजार रुपये पहुंच चुके हैं. उल्लेखनीय है कि इस योजना का लाभ उठाने वालों में मेरठ जिला 12वें स्थान पर है. नगर निगम और जिला प्रशासन का प्रयास है कि जनपद योजना का लाभ लेने वालों में जल्द ही पहले स्थान पर पहुंचे. इस योजना के लाभार्थी प्रधानमंत्री की बातचीत सुनने के बाद काफी खुश नजर आए.

ये भी पढे़ं- सीएम योगी बोले- यूपी में हर रेहड़ी-पटरी व्यवसायी को मिलेगा आत्मनिर्भर योजना का लाभ



उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उनके दुःख-दर्द को समझा है. कोरोना काल में उन्हें आर्थिक तंगी के चलते घर चलाना मुश्किल हो रहा था. प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत मिले 10 हजार रुपयों से उन्हें कारोबार शुरू करने का मौका मिला.
गरीब- पिछड़ों को मिला रोजगार 

प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के जरिए उत्तर प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर सबसे ज्यादा लाभान्वित हुए हैं. मेरठ में भी स्ट्रीट वेंडर ही ज्यादा लाभान्वित हुए हैं. आज इस योजना का लाभ उठाते हुए लोग अपना खुद का कारोबार कर इस कोरोना काल को मात दे रहे हैं. वहीं, अधिकारियों का भी मानना है कि इस योजना से उन गरीब-पिछड़ों को काफी लाभ हो रहा है जो कोरोना में पलायन करके अपने घर लौटे हैं या फिर जो अपना रोजगार खो चुके हैं. उन्होंने इस योजना का लाभ उठाया और आज वो अपना रोजगार कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज