होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Success Story: मेरठ की अरीबा खान ने लहराया परचम, DJS में मिली 68वीं रैंक, पढ़िए इनकी कहानी

Success Story: मेरठ की अरीबा खान ने लहराया परचम, DJS में मिली 68वीं रैंक, पढ़िए इनकी कहानी

X
अरीबा

अरीबा खान को बधाई देते परिवार के सदस्य

Success Story: मेरठ की रहने वाली अरीबा खान ने दिल्ली न्यायिक सेवा (Delhi PCS-J) में 68वीं रैंक के साथ सफलता हासिल की ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: विशाल भटनागर

मेरठ. अगर जीवन में आपको लक्ष्य हासिल करना है, तो कभी भी असफलता मिलने पर पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहिए. इसके बजाए उस लक्ष्य को हासिल करने के लिए अपनी रणनीति की समीक्षा करते हुए उसमें बदलाव करना चाहिए. कुछ इसी तरह का उदाहरण मेरठ के शास्त्री नगर सेक्टर 12 में रहने वाली अरीबा खान ने पेश किया है. अरीबा ने आम जनता को न्याय देने की सपने को संजोया. वहीं, उन्‍होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए दिल्ली न्यायिक सेवा (Delhi PCS-J) में बतौर जज सफलता हासिल की.

दरअसल मेरठ के शास्त्री नगर सेक्टर 12 की रहने वाली अरीबा खान ने दिल्ली पीसीएस जे परीक्षा में 68वीं रैंक हासिल की है. उन्‍होंने अपनी इस सफलता से न सिर्फ अपने माता-पिता बल्कि प्रदेश का नाम रोशन किया. वहीं, अरीबा खान ने न्‍यूज़ 18 लोकल के साथ खास बातचीत में अपनी सफलता का राज बताया. आइए जानें…

आपके शहर से (मेरठ)

  • आपने दिल्ली पीसीएस जे की तैयारी कैसे की?

    अरीबा खान ने बताया कि दिल्ली पीसीएस जे परीक्षा की तैयारी करने के लिए उन्होंने कॉलेज में कक्षाओं का अध्ययन करते समय अपने विषय पर विशेष फोकस किया. इस दौरान जैसे-जैसे एग्जाम की डेट पास आती गई, मैंने अपने विषय की तैयारी करने के लिए समय और बढ़ा दिया. दरअसल मुझे अपना लक्ष्य हासिल करना था.
  • युवा किस तरीके से परीक्षाओं की तैयारी करें ?

    जो युवा यह सोचते हैं कि शॉर्टकट से परीक्षा में सफलता हासिल होगी. ऐसे युवाओं के लिए यही संदेश है कि कभी भी शॉर्टकट से परीक्षा में सफलता नहीं मिलती. जीवन में जो भी चीज हम हासिल करना चाहते हैं, उसके लिए कठिनाइयों को पार करना होगा. कड़ी मेहनत में ही सफलता का राज होता है.
  • परिवार में सबसे ज्यादा किसने सपोर्ट किया?

    जीवन में कोई भी लक्ष्य बिना परिवार की सपोर्ट के हासिल नहीं किया जा सकता. मैं खुशकिस्मत हूं कि जितना सपोर्ट मुझे दादा-दादी, माता-पिता का मिला. उतना ही मेरे नाना-नानी और मामा-मामी ने भी सपोर्ट किया. रोल मॉडल के रूप में अपनी बड़ी बहन डॉक्टर अलीना खान को मानती हूं. उन्‍होंने हमेशा मुझे आगे बढ़ने की सीख दी. मेरी सफलता का पूरा क्रेडिट मेरे नाना एडवोकेट कुंवर अली खान को जाता है.
  • जीवन में कभी असफलता का स्वाद चखा?

    मैं यह तो नहीं कहना चाहूंगी कि मैं इतनी स्पेशल चाइल्ड हूं कि पहली बार में ही जज बन गई. इससे पहले मैंने हरियाणा पीसीएस जे की परीक्षा दी थी. जिसमें मुझे सफलता हासिल नहीं हुई थी. उसके बाद राजस्थान के लिए भी अप्लाई किया, लेकिन उसमें बेहद कम नंबरों से रह गई. दो असफलता के बाद मैंने अपने लक्ष्य को नहीं छोड़ा. उसके बाद दिल्ली पीसीएस जे के लिए अप्लाई किया. दिल्ली पीसीएस जे में 68वीं रैक के साथ सफलता हासिल की है.
  • अरीबा खान और परिवार?

    अरीबा खान ने शुरुआती दौर की पढ़ाई मेरठ के एमपीजीएस गर्ल्स स्कूल से की है. उसके बाद उन्होंने दिल्ली के हिंदू कॉलेज से स्नातक और कैंपस लॉ सेंटर डीयू से एलएलबी की है. अरीबा खान के पिता इंसाफ अली खान एक डॉक्टर हैं. जबकि माता रजिया खान शिक्षिका हैं. वहीं, उनकी बहन डॉ. अलीना खान एमएस गायनेकोलॉजिस्ट हैं.
  • Tags: Meerut news, PCS-J, Success Story

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें