लाइव टीवी

योगी सरकार के इस मोबाइल ऐप गन्ना किसानों को होगा फायदा, बंद हो जाएगी बिचौलियों की दुकान

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 9, 2019, 5:42 PM IST
योगी सरकार के इस मोबाइल ऐप गन्ना किसानों को होगा फायदा, बंद हो जाएगी बिचौलियों की दुकान
योगी सरकार ने गन्ना किसानों के लिए एक ऐप लॉन्च किया है.

इस ई-गन्ना एप्लीकेशन को डाउनलोड कर किसान अब घर बैठे ही सारी जानकारियां अपने मोबाइल पर ही हासिल कर सकेगा. मेरठ मण्डल के डिप्टी केन कमिश्नर राजेश मिश्रा का कहना है कि पर्ची से लेकर सारी जानकारियां किसानों को अब घर बैठे ही मिल सकेंगी और बिचौलियों की दुकानें भी बंद हो जाएंगी.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी सरकार (UP Government) ने एक ऐसा मोबाइल ऐप (Mobile App) लॉन्च किया है, जिससे ख़ासतौर से गन्ना किसानों (Sugarcane Farmers) को फायदा मिलने की उम्मीद है. कहा जा रहा है कि इस ऐप से बिचौलियों की दुकानें बंद हो जाएंगी. अब गन्ना किसानों को अपना हक़ जानने के लिए किसी की मदद की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. बस एक क्लिक और सारी जानकारी उनके मोबाइल पर उपलब्ध हो जाएगी.

दरअसल वेस्ट यूपी गन्ना बेल्ट है. यहां का गन्ना, किसानों के दिल की धड़कन है. लेकिन गन्ना किसान तरह-तरह की समस्याओं से पीड़ित रहते हैं. जैसे- पर्ची, गन्ना मूल्य भुगतान आदि. बिचौलिए भी गन्ना किसानों का फायदा उठाकर अपनी जेबें गरम करते हैं. लेकिन अब यूपी सरकार की तरफ से ई-गन्ना एप्लीकेशन लॉन्च किया गया है. इस एप्लीकेशन से अब घर बैठे मोबाइल पर ही किसानों को सारी जानकारी मिल जाएगी.

इस गन्ना एप्लीकेशन को डाउनलोड कर किसान अब घर बैठे ही सारी जानकारियां अपने मोबाइल पर ही हासिल कर सकेगा. मेरठ मण्डल के डिप्टी केन कमिश्नर राजेश मिश्रा का कहना है कि पर्ची से लेकर सारी जानकारियां किसानों को अब घर बैठे ही मिल सकेंगी और बिचौलियों की दुकानें भी बंद हो जाएंगी.
उन्होंने बताया कि इस नई व्यवस्था का कई किसान फायदा उठा रहे हैं. वे दूसरे किसानों को भी इसे इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं. मेरठ के गन्ना भवन में जब न्यूज़ 18 ने किसानों से बात की तो कई किसानों के इस एप्लीकेशन का नाम लेते ही उनके चेहरे पर मुस्कान आ गई. गन्ना किसान यूपी सरकार को इस नई हाईटेक व्यवस्था के लिए धन्यवाद दे रहे हैं.

यकीनन वेस्ट यूपी के सभी ज़िलों के गन्ना किसान कभी पर्ची तो कभी गन्ना मूल्य भुगतान के ताज़ा अपडेट को लेकर अधिकारियों के चक्कर लगाया करते हैं. कई किलोमीटर दूर से गन्ना भवन आकर उन्हें सारी जानकारियां लेनी पड़ती थीं. किसानों की इस मजबूरी का फायदा बिचौलिए भी उठाते थे.

ये भी पढ़ें:

मुआवजे के लिए दर्ज कराया गैंगरेप का झूठा मुकदमा, 2 महिलाएं गिरफ्तारसीएम योगी आदित्यनाथ बोले- महिला अपराध आज एक चुनौती बना हुआ है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 5:40 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर