लाइव टीवी

पुलिस की वर्दी में ठगी करने वाले ईरानी गैंग के पिता-पुत्र गिरफ्तार, व्यापारियों ने रखा था 51 हजार का ईनाम
Meerut News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 24, 2020, 8:54 PM IST
पुलिस की वर्दी में ठगी करने वाले ईरानी गैंग के पिता-पुत्र गिरफ्तार, व्यापारियों ने रखा था 51 हजार का ईनाम
पुलिस की गिरफ्त में आए शातिर ठग

दिन भर ये पिता-पुत्र अपनी मोटरसाइकिल से रेकी करते और जैसे ही इन्हें अपना शिकार मिलता. फौरन ये पुलिस की वर्दी पहनते और चेकिंग के बहाने ठगी की वारदात को अंजाम देते. अब तक चार राज्यों में दो दर्जन से अधिक ठगी की वारदातों को दे चुके हैं अंजाम...

  • Share this:
मेरठ. पुलिस ऑफिसर (fake police officer) बनकर लोगों को ठगने वाले ईरानी गैंग के शातिर पिता पुत्र गिरफ्तार. पुलिस (UP Police) ने इनके पास से पांच लाख रुपए और लूटे गए सोने-चांदी के ज़ेवरात भी बरामद किए. पकड़े गए दोनों शख्स कितने शातिर हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ये नटवरलाल पुलिस की वर्दी पहन कर चार राज्यों में ठगी की वारदात को अंजाम दिया करते थे. इन्होने अब तक दो दर्जन से अधिक ठगी की वारदातों में शामिल होने की बात कबूल की है. इन शातिरों को पकड़ने के लिए व्यापारियों ने भी इन पर 51 हजार का ईनाम रखा था.

सर्राफा कारोबारी थे सॉफ्ट टारगेट
इनके निशाने पर खास तौर से सर्राफा कारोबारी रहा करते थे. बीती 24 अक्टूबर को इन दोनों शातिरों ने मेरठ के देहलीगेट के रहने वाले एक सर्राफा कारोबारी और रेलवे रोड़ थाना क्षेत्र में एक कारोबारी से ठगी की वारदात को अंजाम दिया था. वारदात को अंजाम देते वक्त इन्होंने पुलिस की ख़ाकी वर्दी पहनकर रखी थी और चेकिंग के बहाने सोने-चांदी के ज़ेवरात और नकदी गायब कर दी थी. जब तक सर्राफा कारोबारी कुछ समझ पाते वो लुट चुके थे. लेकिन आखिरकार ये नटवरलाल पकड़े गए. मेरठ के देहलीगेट थानाक्षेत्र की पुलिस ने इन्हें धर दबोचा.

पुलिस से पूछताछ में इन दोनों ने बताया कि इनकी पुश्तें मूलरुप से ईरान की हैं. इन नटवरलालों ने बताया कि मध्यप्रदेश, यूपी के फर्रुखाबाद और जौनपुर में ईरानियों के डेरे हैं. दिन भर ये पिता-पुत्र अपनी मोटरसाइकिल से रेकी करते और जैसे ही इन्हें अपना शिकार मिलता. फौरन ये वर्दी पहनते और चेकिंग के बहाने ठगी की वारदात को अंजाम देते. चेकिंग के दौरान ये नशीले ड्रग्स व्यापारी के बैग में डाल देते फिर उसे फंसाने की धमकी देते और उसके बैग से सोना-चांदी, ज़ेवरात, नकदी लूटकर फरार हो जाते थे. पकड़ा गया अभियुक्त निसार पहले अपने भाई के साथ ठगी करता था. लेकिन भाई के जेल जाने के बाद उसने अपने बेटे के साथ मिलकर ठगी की वारदातों को अंजाम देना शुरु किया.

सीसीटीवी फुटेज आई काम
रिपोर्ट के मुताबिक पिता-पुत्र निसार व आफ़रीदी दोनों मिलकर विभिन्न राज्यों में अब तक दो दर्जन से अधिक ठगी की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. महंगी शराब का शौकीन निसार लूटी गई ज्यादातर रकम शराब पीने में ही उड़ा देता था. निसार और उसके ठग बेटे आफरीदी के परिवार का ताल्लुक बलूचिस्तान से भी है. दोनों के परिवार अस्सी के दशक में ईरान और ईराक के बीच चले युद्ध के दौरान भारत आ गए थे. पहले जौनपुर और अब फर्रूखाबाद में इनके परिवार रहते हैं. ठगी के माल को ये जौनपुर मे बेच कर ठिकाने लगाते थे. 24 अक्टूबर को मेरठ में हुई वारदात के दौरान इन दोनों की तस्वीरें सीसीटीवी में कैद हुई थी. जिसके बाद पुलिस और व्यापारियों ने इनके पोस्टर चौराहे पर लगा दिए थे. साथ ही व्यापारियों ने इन्हें पकड़ने वालों को 51 हज़ार रुपए इनाम भी देने की घोषणा की थी.

ये भी पढ़ें- AIMPLB के उपाध्यक्ष डॉ कल्बे सादिक बोले- 'देश किसी की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 8:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर