Home /News /uttar-pradesh /

UP Pollution Control Board: मेरठ में GRAP लागू, प्रदूषण फैलाने से पहले जान लें जुर्माने की रकम

UP Pollution Control Board: मेरठ में GRAP लागू, प्रदूषण फैलाने से पहले जान लें जुर्माने की रकम

डॉक्टर योगेंद्र का कहना है कि कंस्ट्रक्शन एजेंसी, इंडस्ट्रीज, पेपर मिल, शुगर मिल पर खास निगाह रखी जा रही है.

डॉक्टर योगेंद्र का कहना है कि कंस्ट्रक्शन एजेंसी, इंडस्ट्रीज, पेपर मिल, शुगर मिल पर खास निगाह रखी जा रही है.

Pollution Control : मेरठ में यूपी पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी डॉक्टर योगेंद्र का कहना है कि अगर कोई इंडस्ट्री प्रदूषण फैलाते पाई जाती है तो उस पर 10 लाख से लेकर 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना लग सकता है. उन्होंने बताया कि जुर्माने की रकम एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (AQI) के अनुसार तय की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. दीपावली के आसपास प्रदूषण के बीते वर्षों के अनुभव से मेरठ में यूपी पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड ने इस बार खास एक्शन प्लान तैयार किया है. इस प्लान के तहत 15 अक्टूबर से ग्रेडेड एक्शन रेस्पॉन्स प्लान (GRAP) लागू कर दिया गया है. अब रेड कैटेगरी वाली इंडस्ट्रीज अगर प्रदूषण फैलाते पाई गईं तो उन पर एक करोड़ रुपये तक का जुर्माना हो सकता है. यही नहीं, दीपावली पर इस बार इको फ्रेंडली पटाखे ही बेचे जा सकेंगे.

मेरठ में यूपी पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी डॉक्टर योगेंद्र का कहना है कि अगर कोई इंडस्ट्री प्रदूषण फैलाते पाई जाती है तो उस पर 10 लाख से लेकर 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना लग सकता है. उन्होंने बताया कि जुर्माने की रकम एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (AQI) के अनुसार तय की जाएगी.

इसे भी पढ़ें : आगरा पहुंचे राकेश टिकैत, बोले- इस बार दिल्ली धरना स्थल पर मनेगी किसानों की दीपावली

डॉक्टर योगेंद्र का कहना है कि कंस्ट्रक्शन एजेंसी, इंडस्ट्रीज, पेपर मिल, शुगर मिल पर खास निगाह रखी जा रही है. 15 अक्टूबर से ग्रैप लागू कर दी गई है. 9 इंडस्ट्रीज पर अब तक कार्रवाई हो चुकी है. विभाग दीपावली के पहले दीपावली के दौरान और दीपोत्सव के बाद आकलन करेगा. क्षेत्रीय अधिकारी का कहना है कि दीपावली में केवल ईको फ्रेंडली पटाखे ही इस बार बेचे जाएंगे.

इसे भी पढ़ें : महंत रवींद्र पुरी बनें अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के नए अध्यक्ष, करेंगे भाजपा का प्रचार

यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ऑफिस के कंट्रोल रूम से भी शहर के पॉल्युशन पर निगाह रखी जा रही है. गौरतलब है कि मेरठ में रेड कैटेगरी की 30 इंडस्ट्री हैं, जबकि बागपत में 9. हालांकि इस बीच बेमौसम बारिश की वजह से मेरठ और आसपास के जिलों के एक्यूआई में सुधार हुआ है. मेरठ में एक्यूआई 58 पाया गया है, जबकि बागपत, मुजफ्फरनगर, शामली और हापुड़ का भी एअर क्वालिटी इंडेक्शन ग्रीन जोन में बना हुआ है.

Tags: Diwali 2021, Meerut news, UP Pollution Control Board

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर