UP के इस गांव के लोग 'बेटा-बेटी' की तरह करते हैं आवारा गायों की परवरिश

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: June 29, 2018, 7:34 AM IST
UP के इस गांव के लोग 'बेटा-बेटी' की तरह करते हैं आवारा गायों की परवरिश
प्रतीकात्मक तस्वीर.

भरतवीर सिंह ने बताया कि गांव में एक पंचायत बुलाकर ये फैसला लिया गया कि अगर गांव में कोई आवारा गाय घूमती पाई गई तो उस व्यक्ति के ऊपर 5,100 रुपये का जुर्माना और 2 दिनों तक ग्राम पंचायत की सफाई कराई जाएगी.

  • Share this:
यूपी में योगी सरकार गौशाला खोलने और उसके संरक्षण को लेकर विस्तृत प्लान के तहत काम कर रही है. इसी कड़ी में सीएम योगी के इस काम से प्रभावित होकर ग्रामीणों ने आवारा घूमने वाली गायों से निपटने के लिए बागपत के रेहतना गांव के ग्रामीणों ने अनोखा तरीका खोज निकाला है. गांव वालों ने पंचायत करके फैसला लिया कि आवारा गायों को वे लोग 'वॉलनटिअर' के तौर पर अपने घर में रखेंगे. उन्हें इसके लिए 3,100 रुपये प्रति महीने दिए जाएंगे. इतना ही नहीं, जिसकी गाय छुट्टा घूमते हुए पाई गई, उसके ऊपर 5,100 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. जो रुपये वॉलंटियर्स को दिए जाएंगे.

यह भी पढ़ें: सीएम योगी की एक आहट से दौड़ी चली आईं गोशाला की गायें

रेहतना गांव के प्रधान भरतवीर सिंह ने न्यूज18 से बातचीत में कहा कि लावारिस घूमने वाली गायों को गोद लेने की एक छोटी सी पहल की गई है. हम लोग इन गायों की सेवा अपने बच्चों की तरह से कर रहे है. भरतवीर सिंह ने बताया कि गांव में एक पंचायत बुलाकर ये फैसला लिया गया कि अगर गांव में कोई आवारा गाय घूमती पाई गई तो उस व्यक्ति के ऊपर 5,100 रुपये का जुर्माना और 2 दिनों तक ग्राम पंचायत की सफाई कराई जाएगी. 'वॉलनटिअर' रखने के सवाल पर ग्राम प्रधान बताते है कि 5 लोगों को  'वॉलनटिअर' की जिम्मेदारी दी गई. जिसमें मै खुद भी शामिल हूं. इन 'वॉलनटिअर' रखने के पीछे का मकसद हैं निगरानी करना.

यह भी पढ़ें: छुट्टा जानवरों से निपटने का योगी प्लान, बुंदेलखंड सहित 23 जगह बनेंगीं गोशाला

जिन लोगों को गाय देखभाल करने के लिए दी गई है. वो उनकों भूखा-प्यासा तो नहीं रख रहे है. क्योकि एक घर को 2 गायों की देखभाल करने के लिए दी गई है. जिसके दाना-पानी के लिए 3,100 रुपये दिए जाएंगे. 1820 की जनसंख्या वाले इस गांव में एक भी गोशाला नहीं है. गांव के लोगों ने गोशाला की मांग जिला प्रशासन के अधिकारियों से लेकर सीएम योगी तक कर चुके है. लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. रेहतना गांव के प्रधान ने बताया, अब हम लोगों ने मिलकर चंदा इकट्टा किया है. इस पैसे से वो लोग गांव में एक छोटी से गोशाला बनाने की सोच रहे है. जिससे एक जगह इन गायों को रखकर उनकी सेवा किया जा सकें.

रेहतना गांव के प्रधान भरतवीर सिंह


हिंदू बाहुल्य इस गांव के ग्रामीणों की सोच लावारिस घूमने वाली गायों की सेवा सच्चे मन से करने की है. प्रधान भरतवीर सिंह ने पीएम मोदी और सीएम योगी से गुहार लगाते हुए कहा कि सरकार हमारे गांव में एक छोटी से गोशाला की शाखा दे. जिससे आवारा घूमने वाली गायों की सेवा करने का हमें मौका मिल सके.
Loading...

यह भी पढ़ें: गांव-गांव गौशाला खोलेगी योगी सरकार, प्रधानों से मांगी ये जानकारी

बता दें कि प्रदेश में छुट्टा जानवरों की समस्या से निपटने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 23 जगहों पर गोशाला बनाने का निर्देश दिए थे. इनमें से 7 बुंदेलखंड के जिलों में और 16 नगर निगमों में बनेंगी. सीएम ने एक समिति बनाकर इनमें रखे जाने वाले गोवंश के संरक्षण का भी निर्देश दिया है. दरअसल छुट्टा जानवरों की समस्या से प्रदेश के कई शहर जूझ रहे हैं. इसको लेकर विपक्षी दल लगातार यूपी सरकार पर हमला करते रहे हैं.

यह भी पढ़ें: 

'नरक के द्वार' मगहर पर संत कबीर ने 500 साल पहले बदली लोगों की सोच: सीएम योगी

..जब कबीर की मज़ार पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया टोपी पहनने से इनकार

मगहर में बोले मोदी- आपातकाल लगाने वाले और विरोधी आज कुर्सी के लालच में साथ आ गए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 29, 2018, 7:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...