लाइव टीवी
Elec-widget

बागपत: युवक को जिंदा जला दिया, FIR लिखवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा परिवार

SHAHJAD RAJPUT | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 8, 2019, 1:03 PM IST
बागपत: युवक को जिंदा जला दिया, FIR लिखवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा परिवार
युवक चांद की फाइल फोटो

परिजनों का आरोप है कि बड़ौत कोतवाल संजीव कुमार ने मुकदमा दर्ज करने से साफ इंकार कर दिया है. वह लोग कई बार इंसाफ की गुहार लेकर थाने की चौखट पर हाजिरी लगा चुके हैं लेकिन वहां पर उनकी कोई भी सुनने वाला नहीं है.

  • Share this:
बागपत में एक युवक को जिंदा जलाने का मामला सामने आया है. आरोप है कि प्रेम प्रसंग से नाराज प्रेमिका के परिजनों ने प्रेमी युवक को जिंदा जला दिया. युवक जब अपने घर में लेटा हुआ था तो इकट्ठा होकर आए 8 से 10 लोगों ने उसे पकड़ कर उस पर केरोसिन तेल डाला और उसके बाद आग लगा दी. आग लगाकर आरोपी मौके से फरार हो गए. युवक की मां और परिजनों का कहना है कि उन्होंने इन लोगों को भागते हुए देखा है.

गंभीर झुलसे युवक को मेरठ के अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उसकी दर्दनाक मौत हो गई घटना 31 जनवरी की रात की बताई जा रही है. लेकिन लापरवाह बड़ौत पुलिस ने अब तक पीड़ित परिजनों का मुकदमा दर्ज नहीं किया है. हत्या का मुकदमा लिखवाने के लिए परिजन पिछले हफ्ते भर से थाने के चक्कर लगा रहे हैं. लेकिन पुलिस के अधिकारी तानाशाही भरा रवैया दिखाकर मुकदमा दर्ज करने से साफ मना कर रहे हैं.

पीड़ित परिवार का कहना है कि युवक ने मौत से पहले बयान भी दिया है, जिसका सबूत भी उनके पास है. उसने मरने से पहले सभी हत्यारों के नाम बताए हैं. लेकिन उसके बावजूद भी बड़ौत पुलिस पर असर नहीं पड़ रहा है. गरीब मां-बाप अपने बेटे की हत्या में अब सरकार से इंसाफ मांग रहे हैं.

दरअसल मामला खेड़ा हटाना गांव का है. यहां एक युवक और युवती का प्रेम प्रसंग चल रहा था. बताया जाता है कि वे दोनों कई बार घर से फरार भी हो चुके थे. इस बार भी प्रेमी अपनी प्रेमिका को लेकर चला गया था. लेकिन गांव में दोनों पक्षो में सुलहनामा कराया गया और मामला निपटाकर लड़की को उसके परिजनों को दिलवा दिया गया. सुलाह होने के बाद युवक भी गांव में आ गया, जिसके बाद प्रेमिका के परिजनों ने उसे जलाकर लड़की को भगाने का इंतकाम लिया.

आरोप है 31 दिसंबर को युवक अपने घर पर लेटा हुआ था. उसके माता-पिता बाहर थे. तभी लड़की के परिजन आए और उसके साथ मारपीट करते हुए कैरोसीन तेल डाला और आग के हवाले कर दिया. आग लगने से युवक का शरीर 80 प्रतिशत तक झुलस गया था, जिसका कई दिनों तक अस्पताल में इलाज चला और उसकी दर्दनाक मौत हो गई.

परिजनों का आरोप है कि बड़ौत कोतवाल संजीव कुमार ने मुकदमा दर्ज करने से साफ इंकार कर दिया है. पीड़ितों ने बताया कि वह लोग कई बार इंसाफ की गुहार लेकर थाने की चौखट पर हाजिरी लगा चुके हैं लेकिन वहां पर उनकी कोई भी सुनने वाला नहीं है.अब मृतक के पिता सरकार से इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं. उधर मामले में पुलिस चुप्पी साधे हुए है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...

ये भी पढ़ें: 

बड़ा झटका! मायावती ने जनता के पैसे से बनवाई अपनी मू्र्तियां, लौटानी होगी रकम- सुप्रीम कोर्ट

कुशीनगर के बाद सहारनपुर में बरपा जहरीली शराब का कहर, अब तक 15 की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेरठ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 8, 2019, 1:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...