Hathras Case: प्रशासन ने पीड़िता के घर के बाहर मेटल डिटेक्टर लगाया, रास्ते की सुरक्षा भी बढ़ाई

हाथरस कांड में रेप पीड़िता के घर के सामने लगा मैटल डिटेक्टर.
हाथरस कांड में रेप पीड़िता के घर के सामने लगा मैटल डिटेक्टर.

हाथरस (Hathras) गैंगरेप कांड के पीड़ित परिवार के घर के सामने पुलिस (Police) ने मैटल डिटेक्टर (Metal detector) लगा दिया है. पीड़ित परिवार से मिलने वाले हर व्यक्ति को इसकी जांच से गुजरना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 4:04 PM IST
  • Share this:
हाथरस. हाथरस गैंगरेप (Hathras Gangrape) कांड के पीड़ित परिवार के लिए लगातार सुरक्षा की मांग की जा रही थी. इसके बाद प्रशासन ने पीड़ित परिवार के घर के सामने मेटल डिटेक्टर (Metal Detector) लगा दिया है. अब इस परिवार से मिलने आने वाले हर आम और खास आदमी को मेटल डिटेक्टर से होकर गुजरना पड़ेगा. सघन जांच के बाद ही कोई भी व्यक्ति पीड़िता के परिवार से मिल सकेगा. इसके साथ ही राज्य सरकार (State Government) ने पीड़िता के परिवार के हर सदस्य के लिए दो सुरक्षाकर्मी मुहैया कराया है.

पीड़ित परिवार के घर की तरफ आने वाले रास्ते पर भी पीएसी को तैनात कर दिया गया है. बता दें कि कल सुप्रीम कोर्ट में पीड़ित परिवार की सुरक्षा का मुद्दा उठा था. इसके बाद राज्य सरकार ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराई है. हाथरस कांड के विरोध में इन दिनों देश भर में आंदोलन हो रहे हैं और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग हो रही है. वहीं पीड़ित परिवार की सुरक्षा के लिए पहले ही कई सामाजिक संगठन और राजनीतिक दल आवाज उठा चुके हैं. हाथरस कांड को लेकर सभी राजनीतिक दल राजनातिक रोटियां भी सेंकने का प्रयास कर रहे हैं.





हाथरस कांड ने यूपी की राजनीति और प्रशासन में बहुत कुछ बदल दिया, आप भी जानें
हाथरस कांड को लेकर प्रदेश की राजनीति में कई तरह के बदलाव देखने को मिल रहे हैं. सबसे बड़ी चीज यह सामने आ रही है कि हाथरस कांड के बहाने यूपी में दंगा फैलाने की साजिश रची जा रही थी. इस मामले में यूपी पुलिस ने जामिया के एक स्टूडेंट को गिरफ्तार भी किया है. इसके अलावा भी पुलिस कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

हाथरस कांड में जांच एजेंसियों ने कहा है कि उनके पास इस बात के सुबूत हैं कि यूपी में दंगे भड़काने के लिए देश-विदेश से 100 करोड़ रुपये से ज्यादा की फंडिंग हुई है. सूत्रों का कहना है कि अकेले मॉरिशस से 50 करोड़ रुपये ट्रांसफर किये गए थे. अब सरकार हाथरस केस से जुड़े हर मामले को सीबीआई को सौंपने की तैयारी कर रही है. बता दें कि हाथरस कांड के बहाने दंगे फैलाने की साजिश में राजधानी लखनऊ, हाथरस समेत कई थानों में दर्जन भर से ज्यादा एफआईआर दर्ज की गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज