लाइव टीवी

बुलंदशहर हिंसा: गोकशी की FIR में 11-12 साल के दो लड़के भी आरोपी, पुलिस ने 4 घंटे थाने में बैठाया
Bulandshahr News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 5, 2018, 1:42 PM IST

बजंरग दल के जिला प्रमुख योगेश राज के बयान पर इन सभी आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है. आपको बता दें कि योगेश राज के खिलाफ भी अलग से FIR दर्ज की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2018, 1:42 PM IST
  • Share this:
(रौनक कुमार गुंजन)

बुलंदशहर हिंसा में अल्पसंख्यक समुदाय के 7 लोगों के खिलाफ गोकशी का मामला दर्ज किया गया है. ये सभी नयाबांस गांव के रहने वाले हैं. सोमवार को बुलंदशहर में हिंसा के दौरान दो लोगों की मौत हो गई थी, जिसमें पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह भी शामिल थे.

जिन सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है इसमें दो नाबालिग भी शामिल है. इनकी उम्र 11 और 12 साल है. स्थानीय पुलिस और गांववालों का कहना है कि बाकी लोग जिनके खिलाफ FIR दर्ज की गई है वे घटना के दिन गांव में नहीं थे.

बजंरग दल के जिला प्रमुख योगेश राज के बयान पर इन सभी आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है. आपको बता दें कि योगेश राज के खिलाफ भी अलग से FIR दर्ज की गई है. योगेश राज पर पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या और हिंसा भड़काने का आरोप है.



नाबालिग बच्चों के माता-पिता और उनके करीबी रिश्तेदारों का कहना है कि पुलिस तलाशी के लिए उनके घर आई थी. शुरुआती पूछताछ के बाद पुलिस बच्चों को साथ लेकर गई. एक रिश्तेदार ने कहा, ''मुझे बच्चों के साथ थाने लेकर गए थे. मुझे वहां करीब 4 घंटे तक रखा. इसके बाद पुलिस ने मुझे नाम और फोन नंबर देने को कहा.''

थाने ले जाए गए एक नाबालिग ने कहा, ''हमने वहां बात नहीं की. मुझे वहां बड़ा अजीब सा लग रहा था. मैं पहली बार किसी थाने में गया था. जब मेरे चाचा ने कहा कि हम लोगों की उम्र 18 साल से कम है तब पुलिस ने हमें आधार कार्ड दिखाने को कहा.''

बुलंदशहर के एक सीनियर पुलिस अधिकारी कृष्ण बी सिंह ने न्यूज़ 18 के सवालों का जवाब देने से मना कर दिया. उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि वह तथ्यों की जांच कर रहे हैं.

करीब 70 पुलिसवाले नयाबांस गांव में 7 आरोपियों की तलाश में गई थी. इन सात आरोपियों में सुदैफ का भी नाम था. लेकिन वो इस गांव का रहने वाला नहीं है. इलियास नाम के दो लोग इस गांव में मिले. लेकिन पुलिसवालों को बताया गया कि 15 साल पहले ही ये दोनों अपने परिवार के साथ गांव छोड़ कर जा चुके हैं. FIR में तीसरा नाम शराफत का था. वो भी कई सालों से अपने परिवार के साथ फरीदाबाद में रहते हैं.

गांव के सैफुद्दीन और परवेज़ का भी नाम FIR में था. लेकिन शनिवार से ही ये दोनों नयाबांस गांव से दूर बुलंदशहर में थे. ये दोनों वहां धार्मिक कार्यक्रम इज्तेमा के लिए गए थे. अभी तक ये दोनों वहां से वापस नहीं आए हैं. इनके परिवारवालों ने पुलिस को सबूत के तौर पर इज्तेमा में इनके शामिल होने की तस्वीरें और वीडियो भी दिए.

ये भी पढ़ें:

बुलंदशहर हिंसा: गोकशी में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई का वादा, लेकिन पुलिस अधिकारी की हत्या पर चुप्पी

लॉन्च हुआ भारत का सबसे वजनी सैटेलाइट GSAT-11, तेज हो जाएगी इंटरनेट स्पीड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुलंदशहर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2018, 11:27 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर