NDA से अब ये सहयोगी नाराज़, अपना दल के चीफ बोले- सम्मानजनक सीट मिले तो करेंगे गठबंधन

उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल को कार्यक्रमों में नहीं बुलाया जाता है. इस मामले को लेकर वह अपनी नाराजगी अमित शाह से जता चुकी हैं.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव होने में महज कुछ महीने बाकी हैं, इस बीच बीजेपी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में फूट पड़ती जा रही है. आपसी मतभेद में बाद शिवसेना, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी, तेलुगू देशम पार्टी पहले ही एनडीए से अलग हो चुकी है. अब एक और सहयोगी दल ने एनडीए के प्रति नाराज़गी जाहिर की है.



मिर्जापुर में मंगलवार को अपना दल (एस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष आशीष पटेल ने कहा कि बीजेपी की प्रदेश इकाई में अपना दल के कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं है. आशीष पटेल ने कहा कि प्रदेश बीजेपी हमारे कार्यकर्ताओं की उपेक्षा कर रही है. अगर बीजेपी का यही रवैया रहा तो गठबंधन पर विचार किया जाएगा.



पायलट बोले- सहयोगी दलों के छूटने से प्रेशर में BJP, 2019 में फिर बनेगी UPA की सरकार





अपना दल (एस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कैंप कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हम लोगों को सम्मानजनक सीट मिलनी चाहिए, नहीं तो हमारी पार्टी गठबंधन पर विचार करेगी.
उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल को कार्यक्रमों में नहीं बुलाया जाता है. इस मामले को लेकर वह अपनी नाराजगी अमित शाह से जता चुकी हैं. उन्होंने कहा कि वे गठबंधन में सम्मान चाहते हैं. वे चाहते हैं कि उन्हें सम्मान मिले और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दोबारा सरकार बने.



आशीष पटेल का कहना है कि बीजेपी को तीन प्रदेशों में मिली पराजय से सीख लेनी चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि आश्वासन के बाद भी किसी भी आयोग में अपना दल के नेताओं को जगह नहीं दी गई है.




उन्होंने कहा कि सपा-बसपा का गठबंधन हमारे लिए बहुत बड़ी चुनौती है. केंद्रीय नेतृत्व को इस पर विचार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं, तो हमारी पार्टी गठबंधन से अलग भी हो सकती है. इसका निर्णय आने वाले वक्त में लिया जाएगा.



बता दें कि उत्तर प्रदेश में एनडीए की सहयोगी तीनों पर्टियों के नेता हताश हैं. इसी को देखते हुए बीजेपी की प्रमुख सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) ने बीजेपी पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है.



उधर, एक अन्य सहयोगी ओम प्रकाश राजभर पहले से ही पार्टी पर गठबंधन धर्म के तहत ज्यादा सीटें देने का दबाव डाल रहे हैं.



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज