सोनभद्र: अपना दल विधायक ने अवैध खनन मामले में सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

विधायक हरिराम चेरो ने कहा कि ये गंभीर विषय है कि कनहर नदी और सोन नदी की जलधारा को बांध दिया जा रहा है. इसके जीव जंतु मर रहे हैं, नदियों को अस्तित्व समाप्त हो रहा है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2018, 5:06 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2018, 5:06 PM IST
सोनभद्र में दुद्धी विधानसभा से अपना दल विधायक हरिराम चेरो ने योगी सरकार के खिलाफ खनन को लेकर मोर्चा खोल दिया है. उन्होंने इलाके में बालू खनन में नियमो की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाया है. विधायक हरिराम चेरो ने कहा है कि ठेकेदारों ने कनहर नदी में पुल बनाकर जलधारा को बांध दिया, इससे नदी का अस्तित्व समाप्त हो रहा है. यही नहीं उन्होंने आरोप लगाया है कि स्थानीय मजदूरों से लोडिंग नहीं कराई जा रही है. उन्होंने कहा कि इस मामले में ठेकेदारों के साथ अधिकारियों और कर्मचारियों की मिली भगत है. वह इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर कार्रवाई की मांग करेंगे.

ये भी पढ़ें: देखिए अपनी ही सरकार के मंत्री के खिलाफ क्या बोल गए BJP विधायक

रविवार को "सोनांचल संघर्ष वाहिनी" संगठन के प्रदर्शन में शामिल हरिराम चेरो ने एसडीएम को इस संबंध में ज्ञापन सौंपा. ये प्रदर्शन कोन थाना क्षेत्र में आयोजित हुआ. विधायक ने कहा कि एक खोखा बालू साइड है, वहां ठेकेदारों ने नदी में पुल बांध दिया है. नदी की धारा को मोड़ दिया है. लेबरों से बालू की लोडिंग नहीं करा रहे हैं. ये सरकार से जुड़ा विषय है. उन्होंने कहा कि अगर अधिकारियों, कर्मचारियों की मंशा है कि लेबरों को काम नहीं दिया जाए तो उस पर हमें और कुछ नहीं कहना है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को हम बता रहे हैं.

ये भी पढ़ें: योगी के मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने बीजेपी MLA के लिए बोले अपशब्द

उन्होंने कहा​ कि ये गंभीर विषय है कि कनहर नदी और सोन नदी की जलधारा को बांध दिया जा रहा है. इसके जीव जंतु मर रहे हैं, नदियों को अस्तित्व समाप्त हो रहा है. टेंडर लेने वाले ऐसे ठेकेदारों के खिलाफ मुकदमा कायम होना चाहिए. जो अधिकारी और कर्मचारी इसमें शह दिए हैं, उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इसके लिए मैं मुख्यमंत्री जी से मिलकर मामले में कार्रवाई कराने की मांग करूंगा.

विधायक ने कहा कि ये सही है कि मैं सत्ता में हूं. लेकिन पिछले दो महीने से मैं इस बालू की साइट के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा हूं. जब इस साइट का टेंडर निकला था, तभी उन्होंने मुख्यमंत्री और प्रभारी मंत्री को लिखकर दिया था कि ब्रहमोरी साइट, खोखा साइट पूरी तरह से अवैध है. ये साइट सेंचुरी एरिया में है. मुझे कोई भी नेता ये नहीं कह सकता है कि आपने अपनी बात को पहले क्यों नहीं रखा.

ये भी पढ़ें: 

शिवपाल से मुलाकात के बाद बदले राजभर के सुर, योगी की तारीफ में पढ़े कसीदे

BJP में बगावती सुर तेज, बढ़ी योगी और मोदी सरकार की मुश्किलें
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर