लाइव टीवी

मिर्जापुर Lockdown: वाराणसी से मध्यप्रदेश के लिए पैदल निकला मजदूरों का परिवार, पानी पी-पीकर कर रहे सफ़र
Mirzapur News in Hindi

Sumit Garg | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 26, 2020, 4:30 PM IST
मिर्जापुर Lockdown: वाराणसी से मध्यप्रदेश के लिए पैदल निकला मजदूरों का परिवार, पानी पी-पीकर कर रहे सफ़र
वाराणसी से मध्य प्रदेश के लिए पैदल निकला 26 मजदूरों का परिवार

Lock down: महिलाओं और बच्चों के साथ मजदूरों का परिवार मध्य प्रदेश के लिए निकला है. भूखे प्यासे लोग जगह-जगह रूककर पानी पी-पीकर अपने सफ़र को आगे बढ़ा रहे हैं.

  • Share this:
मिर्जापुर. कोरोनावायरस (Coronavirus) से लड़ाई के लिए देश भर में लागू 21 दिनों की लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से अन्य राज्यों में मजदूरी कर रहे लोगों पर आफत टूट पड़ी है. काम ठप होने से मजदूरी मिल नहीं रही, जिसकी वजह से खाने के लाले हैं. साथ ही घर जाने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी बंद होने की वजह से वे अपने गंतव्य के लिए बच्चों संग पैदल ही यात्रा कर रहे हैं. ऐसा ही कुछ देखने को मिला मिर्जापुर में जहां, वाराणसी में रहकर मजदूरी करने वाले कई परिवार गुरुवार को पैदल पहुंचे. महिलाओं और बच्चों के साथ मजदूरों का परिवार मध्य प्रदेश के लिए निकला है. भूखे प्यासे लोग जगह-जगह रूककर पानी पी-पीकर अपने सफ़र को आगे बढ़ा रहे हैं.

दो दिनों से चल रहे हैं पैदल

लॉकडाउन होने की वजह से वाराणसी से अपने गृह जनपद मध्य प्रदेश के हनुमाना बॉर्डर जाने के लिए परेशान ये मजदूर परिवार पिछले दो दिनों से पैदल चल रहे हैं. भूख-प्यास को बुझाने के लिएये लोग जगह-जगह रुककर हैंडपाइप से पानी पीकर पैदल चल रहे हैं. लॉकडाउन होने की वजह से कोई वाहन नहीं मिल रहा है. जिसकी वजह से लगभग 200 किलोमीटर की दूरी तय करने ये परिवार पैदल निकले हैं.

एमपी के हनुमाना क्षेत्र के हैं मजदूर



बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मध्यप्रदेश की हनुमाना क्षेत्र के कई मजदूर मजदूरी करने के लिए जाते हैं. लेकिन कोरोनावायरस को देखते हुए लॉकडाउन की घोषणा की गई थी. जिसके कारण सभी साधन बंद कर दिए गए थे. वहां पर काफी संख्या में मजदूर थे, लेकिन मजदूरी न मिलने के कारण उनके पास पैसे भी नहीं हैं.

25 लोगों का दल पैदल कर रहा है यात्रा

मजदूरों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से काम धंधा बंद है. यहां पर खाने के लिए भी परेशानी हो रही है. कोई मदद करने वाला नही है. घर पहुंच जाएंगे तो किसी तरह जिंदा रह लेंगे. एक मजदूर संतोष ने बताया कि वह वाराणसी से आ रहे है. अब वापस घर जा रहे हैं. जब सब कुछ बंद हो गया तो क्या करें? कौन खाना देगा. घर रहेंगे तो जान पहचान वालो से मांग कर काम चलेगा. हमलोग कल दोपहर 2 बजे से चले हैं. हनुमाना जाना है. 25 लोगो का दल है. परिवार में बच्चे व महिलाएं सभी हैं. एक अन्य मजदूर लखपति ने क आहा काम धंधा सब बंद हो चुका है. क्या करें? खाने को कौन देगा? इसलिए जा रहे हैं. रास्ते मे कोई इंतजाम नहीं है साहब पानी पी-पीकर यात्रा कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:-

COVID-19: यूपी में पान-मसाला और गुटखा पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की तैयारी

COVID-19: यूपी 112 सेवा की इस महिला कांस्टेबल के जज्बे को ADG ने किया सलाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मिर्जापुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 4:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर