अपना शहर चुनें

States

Coronavirus: मिर्जापुर में इटली के 7 पर्यटकों की जांच की गई, बलरामपुर में औचक निरीक्षण

वर्मा ने शुक्रवार को बताया कि भारत नेपाल की खुली सीमा स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती है. (प्रतीकात्मक फोटो)
वर्मा ने शुक्रवार को बताया कि भारत नेपाल की खुली सीमा स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती है. (प्रतीकात्मक फोटो)

सात विदेशी नागरिक वाराणसी (Varanasi) से गुरुवार रात मिर्जापुर आये और एक स्थानीय होटल में ठहरे. होटल के प्रबंधक ने तत्काल इसकी सूचना जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल को दी.

  • Share this:
मिर्जापुर. उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर (Mirzapur) जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी ओपी तिवारी ने शुक्रवार को बताया कि जिले में सात इतालवी पर्यटकों (Italian Tourists) की कोरोना वायरस (Corona virus) के लिए जांच की गई है. हालांकि, अभी किसी में भी संक्रमण के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं. तिवारी ने बताया कि सात विदेशी नागरिक वाराणसी से गुरुवार रात मिर्जापुर आये और एक स्थानीय होटल में ठहरे. होटल के प्रबंधक ने तत्काल इसकी सूचना जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल को दी. ‘‘जिलाधिकारी ने मुझे तत्काल होटल पहुंचकर सातों विदेशी नागरिकों का गहन स्वास्थ्य परीक्षण करने का निर्देश दिया. सभी का परीक्षण मैंने स्वयं किया. फिलहाल, किसी में संक्रमण के लक्षण नहीं दिख रहे हैं.’’

उन्होंने बताया कि सातों विदेशियों को मास्क दिया गया. होटल कर्मचारियों को हिदायत दी गई कि वे कम-से-कम उनके कमरों में जाएं. जरुरत होने पर सिर्फ दो कर्मचारी ही उनका सारा काम करें और उनकी पूरी जानकारी रखी जाए. शुक्रवार दोपहर सभी विदेशी नागरिक वाराणसी लौट गये. जिलाधिकारी पटेल ने संवाददाताओं को बताया कि 24 मार्च से नवरात्रि मेला प्रारम्भ होगा और मेले के दौरान जितने भी प्रवेश बिंदू हैं, सभी पर मेडिकल टीम नियुक्त की जायेगी. टीमें मेले में आये हुए दर्शनार्थियों का स्वास्थ्य परीक्षण करेंगी और कोरोना वायरस से बचाव की जानकारी देंगी. उन्होंने कहा कि जनपद में मास्क की कोई समस्या नहीं है और फिलहाल इसकी कुछ खास जरुरत भी नहीं है.

बायोमीट्रिक हाजिरी पर प्रतिबंध लगा दिया गया है
आजमगढ़ के पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बायोमीट्रिक हाजिरी पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. अब बायोमीट्रिक मशीन की जगह पुलिसकर्मी रजिस्टर उपस्थिति दर्ज कराएंगे. इस बीच भारत-नेपाल सीमा से सटे बलरामपुर जिले में प्रदेश सरकार की टीम ने सीमावर्ती इलाकों में बनाये गये कोरोना वायरस जांच नाकों का औचक निरीक्षण किया. संयुक्त निदेशक अरविंद कुमार वर्मा की अध्यक्षता में वरिष्ठ मेडिकल अफसर देवेन्द्र कुमार और गुणवत्ता प्रबंधक मोहम्मद अताउल्ला ने सीमावर्ती क्षेत्र पचपेड़वा के त्रिलोकपुर, गैसड़ी के जरवा व तुलसीपुर के नंदमहरा चेक नाके का निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान सभी नाकों पर ट्रिपल लेयर मास्क व एन-95 मास्क उपलब्ध पाये गये. इन्फ्रारेड थर्मामीटर से नेपाल से आने वाले लोगों की जांच की जा रही थी.
वर्मा ने शुक्रवार को बताया कि भारत नेपाल की खुली सीमा स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती है. इसीलिए क्षेत्र में विशेष सर्तकता बरती जा रही है. निरीक्षण के दौरान ड्यूटी पर लगे कर्मियों में जानकारी का अभाव मिला. मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा गया कि वह सभी के पुन:प्रशिक्षण की व्यवस्था करें. इसके अलावा टीम ने ननमहरा, त्रिलोकपुर डुमरी आदि गांवों में जाकर ग्राम प्रधान की सहायता से ग्रामीणों को एकत्र कर उन्हें कोरोना वायरस से बचाव की विस्तार से जानकारी भी दी.



24 घंटे कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है
टीम ने संयुक्त जिला चिकित्सालय में बनाये गये आइसोलेशन वार्ड का भी निरीक्षण किया. वार्ड में 24 घंटे कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है. वर्मा ने बताया कि कुछ दिन पहले उतरौला के एक व्यक्ति में लक्षण देखकर उसका नमूना केजीएमयू लखनऊ भेजा गया था, लेकिन उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आयी है. उन्होंने बताया कि अभी तक जिले के 18 लोग चीन व थाईलैण्ड से लौटे हैं. 18 में से छह लोगों की 28 दिन तक निगरानी के बाद उन्हें सुरक्षित घोषित कर दिया गया है. शेष बचे 12 लोगों की निगरानी चल रही है.

ये भी पढ़ें- 

आशीष शर्मा मर्डर केस में बड़ा खुलासा, एक तरफा प्यार बना हत्या की वजह

एलटी ग्रेड सहायक अध्यापक नियुक्ति को लेकर हाईकोर्ट ने किया हस्तक्षेप से इनकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज