लाइव टीवी

मिर्जापुर: भुखमरी के चलते आग लगाने की झूठी शिकायत करने वालों को पुलिस ने भेजा जेल
Mirzapur News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 3, 2020, 11:01 AM IST
मिर्जापुर: भुखमरी के चलते आग लगाने की झूठी शिकायत करने वालों को पुलिस ने भेजा जेल
एडिशन एसपी प्रकाश स्वरूप पांडेय ने बताया कि षड्यंत्र रचने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है

भुखमरी के चलते आग लगाने की झूठी घटना का वीडियो बनाने के मामले में जब एसडीएम सदर (SDM) ने अकील की भतीजी से पूछताछ की तो पता चला कि गांव के ही दो लोगों ने सरकार से पैसे मिलने की लालच में वो वीडियो बनवाया था.

  • Share this:
मिर्जापुर. जनपद में एक हैरतंगेज मामला सामने आया है. दरअसल तीन दिन पूर्व एक शख्स ने खुद को आग लगा कर जान (suicide attempt) देने की कोशिश की जिसके बाद उसकी भतीजी का एक वीडियो वायरल (Video Viral ) हुआ जिसमें उसने अपने चाचा को भुखमरी का शिकार बताया और कहा कि इस वजह से उन्होंने जान देने की कोशिश की. लेकिन पुलिस जांच में किशोरी की ये शिकायत फर्जी पाई गई और जो सच्चाई सामने आई उसने लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया कि महज लालच के लिए जबकि देश कोरोना (COVID-19) जैसी महामारी (Pandemic) से जूझ रहा है इस प्रकार की कहानी गढ़ी जा सकती है.

ये है पूरा मामला
पूरा वाकया इस प्रकार है 31 मार्च को जसोहर पहाड़ी गांव का रहने वाला आसिफ अंसारी नामक युवक एक ट्वीट (tweet) करता है जिसमें गांव के ही एक व्यक्ति द्वारा भूख से परेशान हो कर (due to hunger) खुद को आग लगाने का जिक्र करता है साथ ही उसमें पीड़ित की भतीजी का वीडियो भी अपलोड करता है. ट्वीट होते ही प्रशासन में हड़कंप मच जाता है मौके पर एसडीएम (SDM) सदर व सीओ सदर (CO City) जांच के लिए आग लगाने वाले व्यक्ति के घर पहुंच जाते हैं. जांच में पता चलता है कि आग लगने वाले व्यक्ति व उसकी पत्नी में किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था जिसके बाद घरेलू कलह के चलते अकील ने खुद को आग लगा ली थी. जांच में उसके घर में पका हुए खाने के साथ राशन भी मौजूद मिला.

पैसों के लालच में रची साज़िश



भुखमरी के चलते आग लगाने की झूठी घटना का वीडियो बनाने के मामले में जब एसडीएम सदर ने अकील की भतीजी से पूछताछ की तो पता चला कि गांव के ही दो लोगों ने सरकार से पैसे मिलने की लालच में वो वीडियो बनवाया था. मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने गांव के दोनों आरोपी युवकों को गिरफ्तार कर लिया है. इस मामले में एडिशन एसपी प्रकाश स्वरूप पांडेय का कहना है कि जसोहर पहाड़ी गांव में अकील अंसारी नाम के व्यक्ति ने खुद को आग लगा ली थी. एसडीएम और सीओ सदर की जांच में पता चला कि परिवारिक कलह के चलते शख्स ने आग लगाई थी जिसका फिलहाल जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है. लेकिन उसको लेकर एक षड्यंत्र किया गया.





उन्होंने बताया कि उसी गांव के आसिफ अंसारी और सागर नामक व्यक्ति ने एक ट्वीट किया और उसकी भतीजी का एक वीडियो भी बनाया कि इसने भुखमरी के कारण अपने को आग लगाई. जांच में ये बात पूरी तरह से मिथ्या पाई गई. उन्होंने कहा आरोपियों के इस कृत्य के चलते समरसता का माहौल खराब करने की कोशिश की गई और साथ ही प्रशासन-शासन की छवि धूमिल करने का प्रयास किया गया. फिलहाल आरोपियों के खिलाफ सोशल मीडिया पर घटना के असत्य कारण प्रस्तुत करने व महामारी के समय द्वेषपूर्ण कार्य करने के कारण उक्त अभियुक्तगण के विरुद्ध थाना कोतवाली देहात में मु0अ0स0-57/2020 धारा 269,270,420,505 भा0द0वि0 व 67 आई0टी0 एक्ट पंजीकृत कर दोनो अभियुक्तो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है.

ये भी पढ़ें- COVID-19 से जंग: मानव सेवा को परंपरा से ऊपर रख सीएम योगी ने समाज को दिखाया आईना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मिर्जापुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 3, 2020, 12:50 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading