Covid 19 : बच्ची ने गुल्लक तोड़ पैसा किया था दान, प्रशासन ने टैबलेट और साइकिल देकर किया सम्मान

अपने सेवा भाव की वजह से सम्मान पाती सुहानी.
अपने सेवा भाव की वजह से सम्मान पाती सुहानी.

जिलाधिकारी (District Magistrate) ने सुहानी के सेवा भाव से प्रभावित हो उसे टैबलेट और साइकिल गिफ्ट की है. सुहानी नाम की यह बच्ची पढ़-लिखकर डॉक्टर बनना चाहती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 12:13 AM IST
  • Share this:
मिर्जापुर. दस साल की मासूम बेटी ने अपनी इच्छाएं भूलकर पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अपील पर कोविड 19 (Covid 19) के खिलाफ जंग के लिए अपनी गुल्लक फोड़कर 4091 रुपये दान किए थे. उसके इस सेवा-भाव की जानकारी मिलने पर जिलाधिकारी (District Magistrate) ने उसे टैबलेट और साइकिल गिफ्ट की है. सुहानी नाम की यह बच्ची पढ़-लिखकर डॉक्‍टर बनना चाहती है.

4091 रुपये किए थे दान

आपको याद होगा कि कोरोना संक्रमण के खिलाफ संघर्ष के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आम जनता से पीएम केयर्स फंड में सहयोग मांगा था. पीएम की अपील पर मीर्जापुर नगर के घंटाघर की रहने वाली 10 साल की सुहानी ने भी कदम बढ़ाया था. उसने अपना गुल्लक फोड़कर 4091 रुपये दान किए थे. अपनी साइकिल खरीदने के लिए सुहानी ने इस गुल्लक में पैसे जमा किए थे. लेकिन देश और समाज की सेवा के सामने उसने अपनी साइकिल कुर्बान कर दी थी. पूरे माजरे को जानने के बाद जिलाधिकारी सुशील कुमार और नगर मजिस्ट्रेट जगदंबा सिंह ने पहल कर सुहानी को पढ़ाई के लिए टैबलेट और साइकिल गिफ्ट की है.



साइकिल के लिए जमा कर रही थी पैसे
सुहानी के इस सेवा-भाव को एकबार और याद करने की जरूरत है. दस साल की सुहानी हर दिन अपनी पॉकेट मनी गुल्लक में डालती थी. दरअसल वह अपने लिए एक साइकिल खरीदना चाहती थी. इसी बीच कोरोना आपदा आई और साथ आई पीएम की अपील. पीएम की अपील के सामने सुहानी ने साइकिल की इच्छा का त्याग कर अपना गुल्लक फोड़ डाला. गुल्लक से निकले पैसे लेकर वह अपने पिता के साथ शहर कोतवाली पहुंच गई. उसने साइकिल के लिए जुटाई पूरी राशि कोरोना के खिलाफ जंग के लिए दे दिया. उसने थाने पर मौजूद नगर मजिस्ट्रेट जगदम्बा सिंह को यह राशि सौंपी थी.

कोरोना के खिलाफ जंग में बच्ची का भी हाथ

इस पूरे प्रकरण पर जिलाधिकारी सुशील कुमार सिंह कहते हैं कि कोरोना से लड़ाई के लिए इस बच्ची ने अपने गुल्लक के लगभग ₹4000 रुपये दान कर दिए थे. ये पैसे उसने साइकिल खरीदने के लिए जमा किए थे. लेकिन जब देखा कि आसपास के लोग कोविड से लड़ने के लिए आगे आ रहे हैं तो इसने भी उस लड़ाई में अपनी हिस्सेदारी निभानी चाही और गुल्लक तोड़कर लगभग ₹4000 हजार रुपये जिला प्रशासन को दिए. आज उसका सम्मान करते हुए जिला प्रशासन ने एक साइकिल और एक टैबलेट गिफ्ट किया है. मैं उनके माता-पिता को बधाई देना चाहूंगा. बच्ची अभी से ही समाज सेवा में लगी हुई है, बहुत आगे जाएगी, मेरा आशीर्वाद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज