• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • सूखे की समस्या के समाधान के लिए सरकार करवाएगी कृत्रिम बारिशः सिंचाई मंत्री

सूखे की समस्या के समाधान के लिए सरकार करवाएगी कृत्रिम बारिशः सिंचाई मंत्री

आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने चीन से सस्ती कृत्रिम बारिश तकनीक विकसित की है. चीन जहां 1 हजार वर्ग किमी बारिश के लिए 10 करोड़ मांग रहा था जबकि वैज्ञानिकों ने आधे लागत पर 5 करोड़ में ही कृत्रिम बारिश करवाने में कामयाबी पाई है

  • Share this:
    सूबे के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने यूपी में सूखे कि समस्या के समाधान के लिए कृत्रिम बारिश करवाने की बात कही है. मिर्जापुर दौर पर शनिवार को पहुंचे सिंचाई मंत्री ने बताया कि आईआई टी कानपुर के वैज्ञानिकों ने कृत्रिम बारिश की विधा विकसित करने में सफलता पाई है. उन्होंने कहा कि सरकार महोबा और विंध्याचल के सूखे इलाको में इसकी मदद से बारिश करवाएगी.

    यह भी पढ़ें-यूपी के 38 जिले बाढ़ से प्रभावित, पीड़ितों के लिए राहत शिविर में उचित प्रबंध: धर्मपाल सिंह

    सिंचाई मंत्री के मुताबिक कृत्रिम बारिश के लिए चीन की कंपनियों द्वारा तकनीकी देने से इनकार करने के बाद आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने चीन से सस्ती कृत्रिम बारिश तकनीक विकसित कर ली है. उन्होंने बताया कि चीन जहां 1 हजार वर्ग किलोमीटर बारिश के लिए 10 करोड़ मांग रहा था जबकि वैज्ञानिकों ने आधे लागत पर 5 करोड़ में ही कृत्रिम बारिश करवाने में कामयाबी पाई है.

    यह भी पढ़ें-यूपी में बाढ़ के संकट के बीच घोटाले को लेकर योगी के मंत्री और अफसर आमने-सामने

    एक पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया कि प्रदेश आने वाले समय में सूखे से निपटने के लिए कृत्रिम बारिश का ही सहारा लेना पड़ेगा. वहीं, एससी-एसटी कानून के दुरूपयोग और पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने देश पर 70 साल राज किया है और मोदी सरकार 4 वर्ष में इसे पूरा नहीं कर सकती हैं. हालांकि उन्होंने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर चिंता जताते हुए कहा कि किसानों के हितों से समझौता नहीं किया जाएगा.

    (रिपोर्टर, मिर्जापुर)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज