अपना शहर चुनें

States

बाढ़ का जायजा लेने निकले थे विधायक जी, गंगा के बीच स्टीमर का पेट्रोल हुआ खत्म, फिर...

बीजेपी विधायक रत्नाकर मिश्रा जिस स्टीमर से निरीक्षण करने निकले थे, उसका तेल बीच गंगा में पहुंचकर खत्म हो गया. मझदार में उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ा.
बीजेपी विधायक रत्नाकर मिश्रा जिस स्टीमर से निरीक्षण करने निकले थे, उसका तेल बीच गंगा में पहुंचकर खत्म हो गया. मझदार में उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ा.

मिर्ज़ापुर (Mirzapur) में गंगा (Ganga) में आयी बाढ़ (Flood) से घिरे लोगों का हाल जानने पहुंचे बीजेपी के नगर विधानसभा से विधायक रत्नाकर मिश्रा खुद ही मुश्किलों में घिर गये. वे जिस स्टीमर से निरीक्षण करने निकले थे, उसका तेल बीच गंगा में पहुंचकर खत्म हो गया.

  • Share this:
मिर्जापुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कई जिले इन दिनों बाढ़ (Flood) की चपेट में हैं. सबसे ज्यादा बुरा हाल गंगा (Ganga) के तटवर्ती जिलों का है. इन्हीं में से एक मिर्जापुर (Mirzapur) भी है. यहां बाढ़ से हजारों लोग बेहाल हैं और करोड़ों का नुकसान देखने को मिला है. उधर शनिवार को मिर्ज़ापुर में गंगा में आयी बाढ़ से घिरे लोगों का हाल जानने पहुंचे बीजेपी के नगर विधानसभा से विधायक रत्नाकर मिश्रा खुद ही मुश्किलों में घिर गये.

घंटों फंसे रहने के बाद किसी तरह एक स्टीमर से तेल लेकर पहुंचे किनारे

दरअसल बीजेपी विधायक जिस स्टीमर से निरीक्षण करने निकले थे, उसका तेल बीच गंगा में पहुंचकर खत्म हो गया. हालात यह थे कि बाढ़ के बीच गंगा में विधायक अपने सुरक्षाकर्मी और नायाब तहसीलदार सदर के साथ घंटों फंसे रहे. घंटों बाद एक स्टीमर से तेल लेकर वह लोग किसी तरह वापस विंध्याचल राम गया घाट पहुंचे.



विधायक ने जिला पंचायत अधिकारी पर लगाया लापरवाही का आरोप
यहां विधायक रत्नाकर मिश्रा ने जिला पंचायत के अधिकारी पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी मंशा ऐसी थी कि हम जल समाधि ले लें. वहीं इस निरीक्षण के दौरान लापरवाही भी देखने को मिली एक तरफ जहां स्टीमर में तेल नहीं था तो दूसरी विधायक सहित सभी लोगों को बिना लाइफ जैकेट के बाढ़ में निरीक्षण के लिए ले जाया गया था.

अनुप्रिया पटेल भी बाढ़ राहत के दौरान नाव से फिसलीं

उधर पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) मिर्जापुर (Mirzapur) के पिपराही क्षेत्र में बाढ़ (Flood) ग्रस्त इलाकों का निरीक्षण करने के दौरान बाल-बाल बच गईं. दरअसल वह एक जगह नाव से उतरते समय फिसलकर पानी में गिर गईं. बाद में उन्हें पटरे की सहायता से नाव पर वापस चढ़ाया गया. इस दौरान अनुप्रिया पटेल को चोट नहीं लगी. उन्होंने इसके बाद नाव से ही लोगों का हाल-चाल पूछा और पूछा कि क्या कोई सरकारी सहायता उन्हें मिली है. लोगों ने बताया कि उनके पास अभी तक कोई नहीं पहुंचा है, कोई सहायता नहीं दी गई.

(रिपोर्ट: सुमित गर्ग)

ये भी पढ़ें:

मिर्जापुर: पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल बाल-बाल बचीं, नाव से उतरते समय फिसलीं

विधानसभा उपचुनाव: BJP के सामने सीट बचाने तो विपक्ष के लिए साख बचाना चुनौती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज