मिड डे मील: आखिर क्यों बच्चों को खिलाई नमक रोटी, सामने आया सच!

Sumit Garg | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 4, 2019, 6:08 PM IST
मिड डे मील: आखिर क्यों बच्चों को खिलाई नमक रोटी, सामने आया सच!
सामने आया सच!

जिस दिन 22 अगस्त को यह वाकया हुआ उस दिन भी स्कूल में सिर्फ रोटी बनी थी और कुक प्रिंसिपल मुरारी का इंतजार कर रही थी सब्जी लाने के लिए.

  • Share this:
मिर्ज़ापुर(Mirzapur) के हिनौता गांव का मौजा प्राथमिक विद्यालय सियुर में बच्चों को मिड डे मील (Mid day Meal) में नमक रोटी खिलाने के मामले में यूपी सरकार की खूब किरकिरी हुई. ग्रामीणों से बात की तो पता चला कि स्कूल में तैनात प्रभारी प्रिंसिपल मुरारी और स्कूल में काम करने वाली दो कुक के बीच आपसी रस्साकसी के कारण स्कूल के मिड डे मील की व्यवस्था कुछ दिनों से गड़बड़ चल रही थी. दरसरल प्रिंसिपल मुरारी खुद ही खरीद कर मिड डे मील का राशन स्कूल लाते थे. जिस दिन 22 अगस्त को यह वाकया हुआ उस दिन भी स्कूल में सिर्फ रोटी बनी थी और कुक प्रिंसिपल मुरारी का इंतजार कर रही थी सब्जी लाने के लिए.

मुरारी वहां पर पहुंचे मगर तब तक स्कूल में नमक और रोटी का वितरण हो रहा था. चौंकाने वाली बात तो यह है कि प्रिंसिपल मुरारी ने जिस गांव के सब्जी की दुकान पर स्कूल में राशन देने के लिए बोला था. वहां से सब्जी क्यों नही मंगाई गई जबकि वह स्कूल से महज 500 सौ मीटर दूर है. वहां से इससे पहले दो बार 7 अगस्त और 19 अगस्त को सामान लाया गया था. इतना ही नहीं दुकानदार के मुताबिक तीन सौ रुपये से अधिक रुपया वहां पर प्रिंसिपल द्वारा जमा होने की बात भी दुकानदार ने स्वीकार की, मगर प्रिंसिपल से आपसी मतभेद के कारण स्कूल की कुक चंद कदम दूर दुकान पर न जा कर, स्कूल में रोटी बना इंतजार करती रहीं.

वहीं गांव वालों के मुताबिक इस प्रकरण की शुरुआत तब हुई जब 22 तारीख को लगभग 9 बजे के करीब गांव के ही रहने वाले सुनील स्कूल पहुंचे बाद में प्रधान प्रतिनिधि राजकुमार पाल को स्कूल में सिर्फ रोटी बने होने की जानकारी दी गई. इस पर राजकुमार पाल मौके पर पहुंचे और उन्होंने स्थानीय जनसंदेश टाइम्स के पत्रकार पवन जायसवाल को फोन कर बुलाया. स्कूल की कुक के मुताबिक देर होने के कारण उन्होंने जो उनके पास नमक रोटी था उसे बांट दिया.

हालांकि जिस समय उन्होंने यह बांटा तब तक स्कूल के प्रिंसिपल मुरारी खुद स्कूल में चावल और गेंहू लेकर पहुंच चुके थे. उनके पहुंचने के तुरंत बाद नमक और रोटी बच्चों को बांटा गया. स्कूल की शिक्षा मित्र शंति देवी के अनुसार काफी देर तक स्कूल में मिड डे मील को लेकर आपस में बातचीत होती रही है. अभिवावक विरोध कर रहे थे. स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं का कहना है कि दो घण्टे बैठने के बाद नमक रोटी मिली थी जब तक पत्रकार नहीं पहुंच गए तब तक खाना नहीं दिया गया.

ये भी पढ़ें:

यूपी में कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में ये नाम चल रहे हैं सबसे आगे

नए MV Act लागू होने के पहले 3 दिन में वसूले गए 3 करोड़ 63 लाख

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मिर्जापुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 5:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...