मिर्जापुर: एसपी सिटी की पहल से गरीब के घर भी मन गई दिवाली, खरीद लिए पूरे दीये

एसपी सिटी संजय वर्मा ने गरीब के सभी दिए खरीदकर उदास चेहरों पर ला दी खुशी

Mirzapur News: एसपी सिटी संजय वर्मा इस परिवार के लिए फ़रिश्ता बनकर आए. कानून व्यवस्था का पालन करने के लिये गश्त पर निकले एसपी सिटी संजय वर्मा ने देखा कि रात के 10 बज रहे थे और सड़क किनारे मिट्टी के बर्तन और दिये की दुकान लागये एक परिवार बैठा है.

  • Share this:
मिर्जापुर. यूपी पुलिस (UP Police) की तमाम बुराईयों के बीच एक अच्छी तस्वीर मिर्जापुर (Mirzapur) में देखने को मिली, जहां रास्ते से गुजर रहे पुलिस अधिकारी ने एक गरीब के जीवन मे उजाला लाने का प्रयास किया. सुबह से ही सड़क के किनारे जमीन पर दुकान लगाये बैठे मिट्टी के दिये बेचने वाले वृद्ध और मासूम बच्चों के साथ बैठी एक महिला से उन्होंने पूरे दीये खरीद लिये और अपने घर ले जाने के साथ ही बाकी बचे दीयों को अपने हमराही को बांट दिया. एसपी सिटी के इस पहला से शनिवार देर रात गरीब परिवार के भी घर दिवाली मन गई. इस पल का वीडियो राह चलते लोगों ने बना लिया जिसकी चर्चा शहर में आम है.

कोरोना काल में यह लोगों की पहली दीवाली थी, ऐसे में लॉकडाउन के बाद अनलॉक के तहत बाजार भी खुल गये. दीवाली त्यौहार होने के नाते बाजार भी गुलजार था हर तरफ बिरंगी लाइटों से शहर भी रोशन था. लेकिन इन सबके बीच आपको सड़क किनारे जमीन पर बैठ कर मिट्टी के दीये बेचने वाले लोग जरूर दिखाई दिए होंगे. इस उम्मीद के साथ कि अगर दीये बिक गये तो हम भी खुशी से दीवाली मना सकेंगे. लेकिन मिर्जापुर के  गरीब परिवार के साथ रात दस  तक ऐसा नहीं हो सका और एक भी दिया नहीं बिका.

रात 10 बजे तक नहीं बीके थे दिए

इस बीच एसपी सिटी संजय वर्मा इस परिवार के लिए फ़रिश्ता बनकर आए. कानून व्यवस्था का पालन करने के लिये गश्त पर निकले एसपी सिटी संजय वर्मा  ने देखा कि रात के 10 बज रहे थे और सड़क किनारे मिट्टी के बर्तन और दिये की दुकान लागये एक परिवार बैठा है. लेकिन रात होने तक उनके दिए नही बिक पाये थे. उनके चेहरों पर मायूसी झलक रही थी. ऐसे में  उन्होंने उनसे सारे दियो को खरीद लिया. इसके बाद अपने हमराहियों को दिए बांटने के साथ वे दिए अपने घर भी ले गये.

एसपी सिटी ने कही ये बात

इस बारे में संजय वर्मा ने बताया कि दीवाली का पर्व थ. ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था देखने के लिये हम गश्त पर थे. उन्होंने कहा कि हमने देखा कि सड़क किनारे ज़मीन पर बैठे लोग दीयों को बेच रहे थे. लेकिन रात हो रही थी और दिये न बिकने से  उनके चेहरे पर उदासी थी. तो हमने उनसे सारे दीयों को खरीद लिया और अपने साथ चलने वाले सिपाहियों को भी बाट दिया. बाकी बचे दीयों को हम भी अपने साथ ले आये थे. उन्होंने कहा कि इसी बहाने ही सही उनके चेहरों में खुशी देखने को मिली.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.