Assembly Banner 2021

जब बच्चे बने एक दिन के थानेदार, पुलिसकर्मी नहीं दे पाए ये जवाब

मिर्जापुर में शनिवार को जिले के तीन बच्चों ने अलग-अलग थानों का चार्ज संभाला.

  • Share this:
यूपी के मिर्जापुर में शनिवार को जिले के तीन बच्चों ने अलग-अलग थानों का चार्ज संभाला. बच्चों ने थाने की पूरे दिन की गतिविधियां देखीं. इस दौरान थाने के पुलिसकर्मी उनके साथ रहे और गाइड करते रहे.

जानकारी के मुताबिक मिर्जापुर पुलिस ने जिले में निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया था. इस प्रतियोगिता में फर्स्ट, सेकेंड और थर्ड आने वाले बच्चों को पुलिस ने एक दिन के लिए थाने का एसओ बनाया. फर्स्ट रही शिवांगी को शहर थाने का कोतवाल, सेकेंड रहे दिव्यांश यादव कटरा थाने और थर्ड रहे प्रांजल वाजपेयी को देहात कोतवाली का कोतवाल बनाया गया.

तीनों बच्चों ने सुबह से ही कोतवालियों का काम संभाल लिया था. इनके साथ मौजूदा कोतवाल भी रहे. मिर्जापुर के पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने बताया कि बच्चों को कोतवाल इसलिए बनाया गया है ताकि वह पुलिस की कार्रवाई को देखें और समझें. तिवारी ने कहा कि निबंध प्रतियोगिता में एक विषय यह भी था कि यदि आपको एक दिन के लिए एसपी बना दिया जाए तो आप क्या करेंगे.



निबंध प्रतियोगिता के विजेता बच्चों ने दिनभर कोतवाल बनकर पुलिस का काम देखा और कुछ आदेश भी दिए. शिवांगी ने निरीक्षण के दौरान कोतवाली में मौजूद पुलिसकर्मियों से पूछा कि पुलिस वालों पर जब रिश्वत लेने का आरोप लगता है तो क्या उन्हें सजा मिलती है. इस पर पुलिसकर्मी कुछ देर के लिए चुप हो गए. इसके बाद किसी ने कहा कि जांच की जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज