नेहा चौधरी हत्याकांड खुलासा: गैंगरेप केस में फंसे सगे भाई ने ही की थी हत्या, पीड़ित परिवार को फंसाने की थी साजिश

नेहा चौधरी हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, सागा भाई निकला हत्यारा

नेहा चौधरी हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, सागा भाई निकला हत्यारा

Amroha Neha Chaudhary Murder Case: भाई ने खुद को बचाने के लिए अपनी बहन की हत्या कर दी डाली और पूरे मामले में गैंगरेप पीड़िता के परिजनों को झूठे केस में फ़साने की साजिश रची. पुलिस के मुताबिक आरोपी भाई की साजिश बहन की हत्याकर मामले में समझौते के आधार पर बरी हो की थी.

  • Share this:
अमरोहा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमरोहा (Amroha) जनपद में तीन दिन पहले हुए नेहा चौधरी हत्याकांड (Neha Chaudhary Murder Case) का पुलिस (Police) ने खुलासा कर दिया है. बुधवार को पुलिस अधीक्षक सुनीति ने जब इस हत्याकांड का खुलासा किया तो सभी चौंक गए. पुलिस के मुताबिक नेहा चौधरी की हत्या उसके सगे भाई अंकित चौधरी ने सिर्फ इसलिए की थी क्योंकि वो गैंगरेप के एक मामले में फंसा हुआ था. भाई ने खुद को बचाने के लिए अपनी बहन की हत्या कर दी डाली और पूरे मामले में गैंगरेप पीड़िता के परिजनों को झूठे केस में फ़साने की साजिश रची. पुलिस के मुताबिक आरोपी भाई की साजिश बहन की हत्याकर मामले में समझौते के आधार पर बरी हो की थी.

बता दें कि अमरोहा जनपद के थाना अमरोहा देहात इलाके के बाईपास मार्ग पर स्थित हिल्टन कान्वेंट स्कूल के पास खाली प्लॉट में बीते 8 फरवरी की सुबह एक अज्ञात युवती का शव पड़ा मिला था. जिसकी ईंट से कूचकर हत्या की गई थी. राहगीरों ने इसकी सुचना स्थानीय पुलिस को दी. पुलिस ने मृतका की शिनाख्त अमरोहा नगर के मोहल्ला पीर गढ़ की रहने वाली नेहा चौधरी के रूप में की थी. इस मामले में मृतका के चाचा की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था.

सीडीआर से मिली अहम जानकारी 

इसके बाद पूरे मामले में पुलिस की जांच शुरू हुई. फॉरेंसिक टीम से लेकर के सीडीआर टीम को एक्टिव किया गया. एसपी ने खुलासे के लिए तीन टीमें लगाई. इस पूरे मामले में मृतक युवती नेहा चौधरी के मोबाइल की सीडीआर से अहम जानकारी मिली। फिर  सीसीटीवी फुटेज के आधार पर देहात थाना पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने सफलता हासिल की. मृतक नेहा के भाई को गिरफ्तार कर लिया.
गैंगरेप केस से बरी होने के लिए की हत्या 

पुलिस अधीक्षक बताया कि सगा भाई अंकित चौधरी पर थाना डिडौली क्षेत्र इलाके की दलित नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप के मामले में 29 जनवरी को  मुकदमा दर्ज हुआ था. जिसमें आरोपी अंकित फरार चल रहा था. इस पूरे मामले में खुद को बचाने के लिए उसने अपनी बहन की हत्या की साजिश रच डाली। अंकित की बहन नोएडा में एक प्राइवेट कम्पनी में काम करती थी. अंकित ने नेहा को बुलाने के लिए अमरोहा से किराये की गाड़ी से 7  फरवरी की दोपहर नोएडा पहुंचा। वहां उसने अपनी बहन से कहा कि उसके ऊपर जो रेप का आरोप लगा है उसमें समझौते के लिए उसको भी बुलाया गया है. इसके बाद वह बहन को लेकर अमरोहा बाईपास के पास गाड़ी से उतर गया. गिरफ़्तारी का डर दिखाकर उसने बहन से पैदल चलने को कहा. इसके बाद सुनसान इलाके में एक स्कुल के पास खली पड़े प्लाट में उसका गला दबा दिया। उसके गिर जाने पर ईंट से कूचकर उसकी हत्या कर दी.

खुलासा करने वाली टीम को इनाम 



पुलिस ने जब कड़ाई से पूछताछ की तो उसने सारा राज उगल दिया। उसने बताया कि डिडौली कोतवाली क्षेत्र की एक युवती के द्वारा उसके ऊपर गैंगरेप मुकदमा दर्ज कराया गया था. जिसके बाद से वह परेशान था. इस पूरे मामले से निजात पाने के लिए उसने साजिश रची और अपनी बहन को मौत के घाट उतारा ताकि वह गैंगरेप के मुकदमे के वादी पक्ष के लोगों को उसमें फंसाकर अपने ऊपर लगे मुकदमे में समझौता करके गैंगरेप के मुकदमे से बरी हो सके. पुलिस अधीक्षक सुनीति ने खुलासे करने वाली टीम को इनाम घोषित किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज