अपना शहर चुनें

States

किसान आंदोलन के बीच CM योगी आज जाएंगे मुरादाबाद, गाजियाबाद का भी करेंगे दौरा

किसान आंदोलन के बीच CM योगी आज जाएंगे मुरादाबाद (File photo)
किसान आंदोलन के बीच CM योगी आज जाएंगे मुरादाबाद (File photo)

इससे पहले मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने विपक्ष पर प्रदेश और देश में अराजकता फैलाने का आरोप लगाया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2020, 10:12 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. कृषि कानून (APMC Act) के विरोध में किसानों का आंदोलन जारी है. इसी बीच शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) पश्चिमी यूपी के दौरे पर जा रहे हैं. वह आज 2 बजे मुरादाबाद में होंगे और यहां पार्टी पदाधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से किसानों के आंदोलन पर भी बात करेंगे. यह जानने की कोशिश करेंगे कि किसानों के इस आंदोलन से पश्चिमी यूपी का मिजाज कितना गर्म है. इससे किसको कितना नफा नुकसान हो सकता है. साथ ही विकास कार्यों पर भी चर्चा होगी. उधर, मुरादाबाद में समीक्षा बैठक करने के बाद सीएम शाम 4 बजे गाजियाबाद के लिए रवाना होंगे.

जहां वह इंदिरापुरम के शक्ति खंड चार में देश के पहले कैलास मानसरोवर भवन का लोकार्पण करेंगे. फाइव स्टार होटल की सुविधाओं वाले भवन में यात्रियों को रहने के साथ योग और ध्यान लगाने जैसी सुविधाएं भी मिलेंगी. सिर्फ कैलास मानसरोवर ही नहीं बल्कि चार धाम और लेह लद्दाख की यात्रा पर जाने वाले लोग भी इसका लाभ ले सकेंगे. बताया जा रहा है कि सीएम योगी गाजियाबाद में ही रात्रि विश्राम करेंगे.

यूपी BJP में बड़े पैमाने पर संगठन विस्तार की तैयारी, 28 दिसंबर से जेपी नड्डा करेंगे बैठक



बता दें कि किसान आंदोलन में पश्चिमी उप्र के किसान भी बढ़चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं. भारत बंद के आह्वान के दिन वेस्ट यूपी के सभी जिलों में किसानों ने हुंकार भरी थी. मुरादाबाद, अमरोहा, रामपुर, संभल आदि के किसानों ने भी इस आंदोलन में महती भूमिका अदा की है. मुरादाबाद में तो प्रशासन ने अपनी रणनीति से फिर भी चक्का जाम आदि पर कुछ हद तक अंकुश लगाया पर अन्य जिलों में किसानों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया था. वहीं हाईवे तक जाम किया था.
विपक्ष पर हमला
इससे पहले मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर प्रदेश और देश में अराजकता फैलाने का आरोप लगाया था. सीएम योगी ने कहा कि देश के कुछ राजनीतिक दलों द्वारा वातावरण खराब करने का प्रयास किया जा रहा है. खासतौर पर APMC एक्ट पर राजनीतिक दलों का वर्तमान रवैया उनके दोहरे चरित्र को दर्शाता है. भोले-भाले किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर अराजकता फैलाई जा रही है. उन्हाेंने कहा कि केंद्र ने किसानों के लिए कई क्रांतिकारी कदम उठाए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज