दलितों के बाल न काटने के मामले में SC-ST एक्ट में FIR

अनुसूचित जाति के लोगों के बाल न काटने के मामले में पुलिस ने शनिवार को एससी-एसटी एक्ट में केस दर्ज किया है. यूपी के मुरादाबाद जिले के सलमानी समाज के लोगों ने एससी समुदाय के लोगों के बाल काटने से इनकार कर दिया था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 13, 2019, 11:26 PM IST
दलितों के बाल न काटने के मामले में SC-ST एक्ट में FIR
दलितों के बाल न काटने के मामले में SC-ST एक्ट में FIR. (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 13, 2019, 11:26 PM IST
अनुसूचित जाति के लोगों के बाल न काटने के मामले में पुलिस ने शनिवार को एससी-एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है. यूपी के मुरादाबाद जिले के सलमानी समाज के लोगों ने अनुसूचित जाति के लोगों के बाल काटने से इनकार कर दिया था. भोजपुर के पिपलसना ग्राम में सलमानी समाज के लोगों ने अनुसूचित जाति के लोगों के बाल काटने में मना कर दिया था. अनुसूचित जाति के महेश चंद्र ने इस मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई है.

पुलिस ने  तीन नामज़द सहित कई अज्ञात सैलून संचालकों के खिलाफ भोजपुर थाने में केस दर्ज किया है. सीओ ठाकुरद्वारा विशाल यादव को जांच सौंपी गई है. अनुसूचित जाति के लोगों ने इसका विरोध किया है. इसके साथ ही पुलिस में इस बर्ताव की शिकायत एसएसपी मुरादाबाद से की है. एसएसपी ने शिकायत मिलने पर पूरे मामले की जांच कराने की बात कही है और दोषी पाए जाने पर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया है.



इस गांव में नहीं कटने दिए जाएंगे उनके बाल
न्यूज़ 18 के संवाददाता जब पीपलसाना गांव पहुंचे तो वहां लोगों ने साफ-साफ कहा कि अनुसूचित जाति के लोग कूड़ा उठाते हैं, नालियां साफ करते हैं इसलिए उनके बाल हम यहां नहीं कटने देंगे. वह सालों से भोजपुर में जाकर अपने बाल कटवाते हैं, वहीं जाकर कटवाएं. इस गांव में उनके बाल नहीं कटने दिए जाएंगे. सलमानी समुदाय के लोगों पुलिस से शिकायत के विरोध में शुक्रवार को अपनी दुकानें बंद कर दी हैं. पिपलसना के ग्रामीण भी सलमानी बिरादरी के पक्ष में आ गए हैं, वे भी अनुसूचित जाति के लोगों के बाल न काटने का समर्थन कर कर रहें हैं.

रिपोर्ट – फरीद शम्सी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...