Home /News /uttar-pradesh /

ओलावृष्टि से फसल हुई बर्बाद, किसान ने की आत्‍महत्‍या

ओलावृष्टि से फसल हुई बर्बाद, किसान ने की आत्‍महत्‍या

पिछले दिनों हुई बारिश और ओलावृष्टि के बाद बर्बाद हुई फसल अब किसानों की जान ले रही है. ताजा मामला मुरादाबाद जनपद के कुंदरकी थाना क्षेत्र का है, जहां फसल बर्बाद होने से आहत एक किसान का शव रेलवे ट्रैक पर मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है.

पिछले दिनों हुई बारिश और ओलावृष्टि के बाद बर्बाद हुई फसल अब किसानों की जान ले रही है. ताजा मामला मुरादाबाद जनपद के कुंदरकी थाना क्षेत्र का है, जहां फसल बर्बाद होने से आहत एक किसान का शव रेलवे ट्रैक पर मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है.

पिछले दिनों हुई बारिश और ओलावृष्टि के बाद बर्बाद हुई फसल अब किसानों की जान ले रही है. ताजा मामला मुरादाबाद जनपद के कुंदरकी थाना क्षेत्र का है, जहां फसल बर्बाद होने से आहत एक किसान का शव रेलवे ट्रैक पर मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है.

अधिक पढ़ें ...
पिछले दिनों हुई बारिश और ओलावृष्टि के बाद बर्बाद हुई फसल अब किसानों की जान ले रही है. ताजा मामला मुरादाबाद जनपद के कुंदरकी थाना क्षेत्र का है, जहां फसल बर्बाद होने से आहत एक किसान का शव रेलवे ट्रैक पर मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है.

कुंदरकी थाना क्षेत्र के कुतुबपुर अज्जू गांव के रहने वाला सोमपाल नाम का किसान रविवार देर शाम अपने खेतों की तरफ गया था, लेकिन देर रात तक वापस घर नहीं लौटा. सोमपाल के लापता होने के बाद परिजन देर रात तक आस-पास के क्षेत्रों में तलाश करते रहे लेकिन कोइ सफलता नही मिली. सुबह परिजनों को सूचना मिली की रेलवे स्टेशन के पास रेलवे लाइन पर एक शव पड़ा हुआ है.

सूचना पर मौके पर पहुंचे परिजनों ने शव की शिनाख्त सोमपाल के रूप में की. सोमपाल के परिजनों का कहना हैं की पिछले दिनों हुई बरसात के बाद सोमपाल की गेंहू की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गयी थी, जिसके चलते सोमपाल काफी तनाव में था.

इतना ही नहीं सोमपाल द्वारा पिछले दिनों खेती के लिये एक टैक्टर भी खरीदा गया था, जिसकी किस्तें जमा ना होने के चलते फाइनेंस कंपनी लगातार सोमपाल पर किश्त जमा कराने का दबाव बना रही थी. सोमपाल की मौत के बाद जहां परिजनों में मातम पसरा हुआ है. वहीं, जीआरपी ने सोमपाल के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर