क्लास के वाट्सएप ग्रुप में छात्रा ने टीचर के लिए पोस्ट किए अपशब्द और फिर....
Moradabad News in Hindi

क्लास के वाट्सएप ग्रुप में छात्रा ने टीचर के लिए पोस्ट किए अपशब्द और फिर....
व्हाट्सऐप ग्रुप में ऑडियो पोस्ट करने वाली छात्रा को स्कूल ने बाहर कर दिया (प्रतीकात्मक तस्वीर).

9 वर्षीय कक्षा 4 में पढ़ने वाली छात्रा के पिता का कहना है कि, उनकी बेटी ने वो शब्द बोलकर ग्रुप में डाल दिए जबकि उसे तो ये भी नहीं पता है कि ये गाली हैं. उन्होंने स्कूल जाकर टीचर से माफ़ी भी मांगी और बेटी को माफ़ करने को कहा लेकिन स्कूल प्रबंधन ने उसका नाम काट दिया.

  • Share this:
मुरादाबाद. एक निजी स्कूल ने ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण कर रही एक 9 साल की छात्रा को लॉकडाउन (Lockdown) में ऑनलाइन पढ़ाई (online study) के लिए बनाए गए सोशल साइट्स पर बने व्हाट्सएप ग्रुप से बाहर कर दिया. स्कूल प्रशासन का छात्रा पर आरोप है कि उसने ऑनलाइन स्कूल ग्रुप पर अपनी क्लॉस टीचर के लिये अपशब्द बोलते हुए ऑडियो पोस्ट (Audio Post) कर डाली है, इसी कारण उसे स्कूल की ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले ग्रुप से बाहर कर दिया गया है. वहीं छात्रा के पिता का आरोप है कि उनकी बेटी को अनजाने में हुई भूल के लिए स्कूल मैनेजमेंट ने स्कूल से नाम काटकर उसकी टीसी बना दी है जबकि वो हाथ जोड़कर माफ़ी मांग चुके हैं.

छात्रा को नहीं पता था शब्दों का मतलब!
रिपोर्ट के मुताबिक लॉकडाउन में ऑनलाइन पढ़ाई के लिये बनाये गए ऑनलाइन ग्रुप पर मासूम छात्रा को गाली देने वाली ऑडियो पोस्ट होने के बाद उस ग्रुप से जुड़े अन्य छात्र-छात्राओं के अभिभवाकों ने फोन पर स्कूल मैनेजमेंट से शिकायत की, स्कूल की प्रधानाचार्या मिसेज पारीख का कहना है कि, ग्रुप में पोस्ट वो ऑडियो इतनी गन्दी भाषा में है कि वो बता भी नहीं सकती हैं, प्रधानचार्य के मुताबिक ऑडियो सुनने के बाद छात्रा की क्लॉस टीचर ने रोते हुये आईं और उन्हें वो ऑडियो सुनाया तो उन्हें भी शर्म आने लगी. इसके बाद बच्ची के माता-पिता को स्कूल बुलाया गया, वो भी ऑडियो सुनकर शर्मिंदा हुए, फिलहाल उस बच्ची को ऑनलाइन पढ़ाई ग्रुप से हटा दिया गया है, वहीं कक्षा चार की मासूम छात्रा के पिता का कहना है कि मेरी बच्ची की ऑनलाइन पढ़ाई चल रही थी इसी दौरान दूसरे स्कूल में पढ़ने वाली उसकी सहेली उसको अपने घर ले गयी थी. उनका कहना है कि वहां मौजूद एक और बच्ची ने उनकी बेटी से कहा कि वो अपनी मैम को ये शब्द बोल दे, उनकी बेटी ने वो शब्द बोलकर ग्रुप में डाल दिए जबकि उसे तो ये भी नहीं पता है कि ये गाली हैं. उन्होंने स्कूल जाकर टीचर से माफ़ी भी मांगी और बेटी को माफ़ करने को कहा.

ये भी पढ़ें- Kanpur Encounter case: मंत्री जय प्रताप सिंह ने कानपुर की घटना पर जताया दुख, बोले- भाजपा सरकार बनने के बाद यूपी में अपराध हुए कम!



छात्रा के पिता का आरोप है कि स्कूल में उन्हें बुलाकर यह कहा गया कि उनकी बेटी अब उनके स्कूल में नहीं पढ़ पाएगी और छात्रा की टीसी बनाकर उनके पिता को दी जाने लगी. छात्रा के पिता ने टीसी लेने से इनकार कर दिया, छात्रा के पिता के मुताबिक स्कूल के प्रिंसिपल ने कहा कि अगर आप टीसी नहीं लेंगे तो वह डाक से भेज देंगे, छात्रा के पिता का कहना है उनकी बेटी 9 साल की है वो मासूम है. उसने किसी के बहकावे में आकर यह गलती कर दी है, जिसके लिए उन्होंने हाथ जोड़कर माफी मांग ली है लेकिन स्कूल उनकी बेटी को जबरन स्कूल से बाहर कर रहा है जिससे उनकी बेटी का एक साल खराब हो जाएगा. मीडिया में मामला आने के बाद स्कूल प्रबंधन छात्रा को सिर्फ ऑनलाइन पढ़ाई ग्रुप से बाहर करने की बात कह रहा है. (रिपोर्ट -फरीद शम्शी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading