संभल लोकसभा सीट: 2004 के बाद कभी नहीं लड़ा मुलायम परिवार, इस बार 2 सदस्य हैं दावेदार

दरअसल संभल सीट से चुनाव लड़ने के लिए सपा में घमासान मचा हुआ है. यादव परिवार के अलावा इस सीट से 2014 में कम वोटों के अंतर से हारे सपा के पूर्व सांसद डॉ शफीकुर्रहमान बर्क भी अपनी दावेदारी कर रहे हैं.

Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 15, 2019, 10:08 AM IST
संभल लोकसभा सीट: 2004 के बाद कभी नहीं लड़ा मुलायम परिवार, इस बार 2 सदस्य हैं दावेदार
फाइल फोटो
Amit Tiwari
Amit Tiwari | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 15, 2019, 10:08 AM IST
संभल लोकसभा सीट कभी मुलायम परिवार का गढ़ रही. हालांकि 2004 के बाद से इस सीट पर यादव कुनबे का कोई सदस्य मैदान में नहीं उतरा. लेकिन इस बार सपा-बसपा गठबंधन के बाद बदले माहौल में यहां से यादव परिवार के दो सदस्यों की दावेदारी सामने आ रही है. सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी पुत्रवधू अपर्णा यादव और मैनपुरी से मौजूदा सासद तेज प्रताप यादव के संभल से चुनाव लड़ने की बात सामने आ रही है. दरअसल संभल सीट से चुनाव लड़ने के लिए सपा में घमासान मचा हुआ है. यादव परिवार के अलावा इस सीट से 2014 में कम वोट के अंतर से हारे सपा के पूर्व सांसद डॉ शफीकुर्रहमान बर्क भी अपनी दावेदारी कर रहे हैं. अगर पार्टी परिवार के किसी सदस्य को टिकट देती है तो डॉ बर्क को मनाना आसान काम नहीं होगा. माना जा रहा है कि इस सीट को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव एक-दो दिन में फैसला ले सकते हैं. 1998 में मुलायम ने लड़ा था चुनाव

1998 के लोकसभा चुनाव में मुलायम सिंह यादव संभल सीट से मैदान में उतरे तो यहां की जनता ने उन्हें डेढ़ लाख से ज्यादा वोटों से जिताया था. इसके बाद 1999 में भी मुलायम सिंह यादव को यहां से जीत मिली. इसके बाद 2004 के लोकसभा चुनाव में मुलायम सिंह यादव के चचेरे भाई डॉ रामगोपाल यादव को संभल से चुनाव लड़ने के लिए भेजा गया. रामगोपाल यादव ने इस बार यहां से रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की.

परिसीमन के बाद नहीं लड़ा यादव परिवार 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान संभल सीट का परिसीमन बदलते हुए यादव बाहुल्य गुन्नौर व बिसौली सीटों को बदायूं सीट से जोड़ दिया गया. इसके बाद बदले हालात में मुलायम परिवार का कोई सदस्य संभल सीट से चुनाव लड़ने के लिए नहीं आया. लेकिन इस बार बसपा और सपा के बीच गठबंधन से एक बार फिर तस्वीर बदलती दिख रही है. ऐसे में मुलायम परिवार एक बार फिर वापसी के संकेत दे रहा है. पहले रामगोपाल यादव ने इस सीट से चुनाव लड़ने के संकेत दिए. अखिलेश और डिंपल को भी चुनाव लड़ाने को लेकर मंथन हुआ. अब अपर्णा यादव और तेज प्रताप यादव में से किसी एक को लड़ाने पर फैसला किया जा रहा है. अपर्णा यादव को लेकर चर्चाएं तेज हैं
Loading...

इस बीच संभल सीट से अपर्णा यादव को लेकर चर्चाएं तेज हैं, सोशल मीडिया पर खबर चल रही है कि अपर्णा यादव इस सीट से सपा प्रत्याशी होंगीं. हालांकि अपर्णा यादव ने इस पर खुलकर तो कुछ नहीं कहा लेकिन गेंद नेताजी (मुलायम) और अखिलेश यादव के पाले में डाल दी है. उन्होंने न्यूज18 से बातचीत में कहा कि उनके मेंटर और राजनीतिक गुरु मुलायम सिंह यादव ही उनके किस्मत का फैसला करेंगे. तेज प्रताप यादव के लिए भी चाहिए सुरक्षित सीट वहीं मुलायम परिवार के एक और सदस्य तेज प्रताप सिंह यादव को चुनाव लड़ाने को लेकर भी मंथन तेज है. तेज प्रताप यादव मैनपुरी से सांसद हैं. इस बार इस सीट से मुलायम सिंह यादव मैदान में हैं. अखिलेश ने तेज प्रताप को लेकर कहा भी था कि वे युवा हैं, उनके लिए किसी और सीट खोजी जाएगी. अब वह सीट कौन सी होगी? देखना दिलचस्प होगा. फ़िलहाल यादव परिवार की तरफ से मुलायम मैनपुरी, डिंपल यादव कन्नौज, धर्मेंद्र यादव बदायूं, अक्षय प्रताप यादव फिरोजाबाद से चुनाव लड़ रहे हैं. अभी अपर्णा, अखिलेश और तेज प्रताप के टिकट का ऐलान नहीं हुआ है. रामगोपाल यादव चुनाव लड़ेंगे की नहीं? इस पर भी फैसला नहीं हुआ है. ये भी पढ़ें: अखिलेश के ‘मुलायम’ कदम से मैनपुरी में शुरू हुई सियासी तनातनी, तेज प्रताप पर टिकीं नजरें लोकसभा चुनाव: मोदी लहर में भी इस 'समाजवादी' गढ़ को नहीं ढहा पाई थी BJP लोकसभा चुनाव 2019: मुलायम की बहू डिंपल-अपर्णा के नाम है ये अनचाहा रिकॉर्ड एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...