DRM ऑफिस के बाहर गिरा पेड़, स्कूटी सवार महिला की दबकर मौत

पेड़ इतना भारी था कि स्कूटी जमीन से चिपक गई. हादसे के करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद महिला के शव को पेड़ काटने के बाद जेसीबी मशीन की मदद से बाहर निकाला गया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 11:28 PM IST
DRM ऑफिस के बाहर गिरा पेड़, स्कूटी सवार महिला की दबकर मौत
पेड़ से दबकर स्कूटी सवार महिला की मौत (प्रतिकात्मक फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 11:28 PM IST
मुरादाबाद के सिविल लाइन थाना क्षेत्र में शुक्रवार को मनोकामना मंदिर के पास एडीआरएम आवास के बहार लगा एक विशालकाय सूखा पेड़ गिर पड़ा. वहां से गुजर रही एक स्कूटी सवार महिला की पेड़ तले दब जाने से मौत हो गई. स्कूटी चला रहा महिला का भाई हालांकि बाल-बाल बच गया. उसके कंधे में चोट आई है. इस हादसे में उधर से गुजर रहे एक 65 वर्षीय बुजुर्ग बब्बन भी बाल-बाल बच गए, जबकि पेड़ के नीचे दबने से उनकी साइकिल टूट गई.

शुक्रवार को ये हादसा उस समय हुआ, जब दीपा सैनी नाम की 25 वर्षीय महिला अपने भाई भूपेंद्र के साथ स्कूटी पर बैठकर बाजार जा रही थी. पेड़ इतना भारी था कि स्कूटी जमीन से चिपक गई. करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद महिला के शव को पेड़ काटने के बाद जेसीबी मशीन की मदद से बाहर निकाला गया.

योगी ने बाढ़ग्रस्त इलाकों का किया हवाई सर्वेक्षण, पीड़ितों को दिया मदद का भरोसा

मृतका दीपा सैनी की शादी बिजनौर में रोहताश कुमार के साथ हुई थी. उसके तीन बच्चे हैं. उसके पिता वीरेंद्र मुरादाबाद रेलवे में फोरमैन के पद पर तैनात हैं. वह 31 अगस्त को रिटायर होने वाले हैं. दीपा रक्षा बंधन पर्व मनाने और पिता के रिटायरमेंट के दिन उनके साथ रहने की सोचकर मायके आई थी, लेकिन ऐसी अनहोनी हुई कि उसकी जान चली गई. उसका पति रोहतास एक प्राइवेट कंपनी का कर्मचारी है.

यूपी सरकार की सेवा में लगे 3 पायलटों ने दिया इस्तीफा, 'सैलरी' बढ़ाने की मांग

मौके पर पहुंचे एडीआरएम ने बताया कि रेलवे परिसर में सड़क किनारे सूखा पेड़ खड़ा था. बारिश के बाद मिट्टी गीली होने पर वह गिर पड़ा. इस हादसे के लिए क्या रेलवे पूरी तरह जिम्मेदार नहीं है? इस सवाल का जवाब दिए बिना उन्होंने कहा कि इस तरह के पेड़ों को चिन्हित कर जल्द ही हटाया जाएगा. एसपी ट्रैफिक सतीश चंद्र ने कहा कि यह पेड़ रेलवे कॉलोनी परिसर में मौजूद था. नियमानुसार पेड़ के सूख जाने पर उसे काट दिया जाना चाहिए था, लेकिन इस पेड़ को रेलवे द्वारा नहीं काटा गया, जिस कारण यह हादसा हो गया.

लखनऊ कचहरी ब्लास्ट: दो आरोपी दोषी करार, 27 अगस्त को सुनाई जाएगी सजा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर