UP News: रात 12 बजे नदी के किनारे सैकड़ों लोग हाथ में टॉर्च लेकर हुए इकट्ठा, जानें क्‍या रहे थे तलाश?

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में रात के 12 बजे एक अफवाह के बाद लोग नदी क‍िनारे इकट्ठा हुए

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में रात के 12 बजे एक अफवाह के बाद लोग नदी क‍िनारे इकट्ठा हुए

Uttar Pradesh News: मुरादाबाद में लोगों के नदी क‍िनारे जमा होने की सूचना म‍िलने पर भारी पुलिस फ़ोर्स पुल के ऊपर से ही लोगो से एनाउंसमेंट कर नदी से दूर जाने की अपील करती नज़र आई, लेकिन कोई भी पुलिस अधिकारी या कर्मचारी ये नहीं बताया पाया कि आखि‍र इतने ज़्यादा लोग रात के 12 बजे नदी किनारे क्यूं जमा हुए थे?

  • Share this:

फ़रीद शम्सी

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के थाना मुगलपुरा इलाके में रात के 12 बजे उस वक्त हड़कंप मच गया, जब किसी ने पुलिस को कॉल कर ये सूचना दी कि जामा मस्जिद पुल के पास रामगंगा नदी के किनारे सैकड़ों लोग हाथ मे टॉर्च लेकर कुछ तलाश कर रहे हैं. इतने ज़्यादा लोगो के नदी किनारे जमा होने की सूचना पर हड़कंप मच गया.

शहर के तरह-तरह की अफवाहें उड़ने लगी, किसी ने कहा कि नदी में कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ की बॉडी फेंकी गई है, तो किसी ने कहा कि किसी का बच्चा मारकर नदी में टुकड़े डाल दिये हैं, जिन्हें परिजन तलाश कर रहे हैं. तो किसी ने कहा कि मछली पकड़ने वाले लोग जमा हैं. फ़िलहाल मौके पर पहुंची भारी पुलिस फ़ोर्स पुल के ऊपर से ही नदी किनारे जमा लोगो से एनाउंसमेंट कर नदी से दूर जाने की अपील करती नज़र आई, लेकिन कोई भी पुलिस अधिकारी या कर्मचारी ये नहीं बताया पाया कि आखि‍र इतने ज़्यादा लोग रात के 12 बजे नदी किनारे क्यूं जमा हुए थे?

मुरादाबाद में 2 जून की शाम 7:00 बजे नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया गया था. रात 12 बजे डायल 112 पर किसी ने कोतवाली मुगलपुरा इलाके के जामा मस्जिद पुल के नीचे रामगंगा नदी के दोनों किनारों पर सैकड़ों लोगों के जमा होने की पुलिस को सूचना दी. सूचना देने वाले ने पुलिस को बताया कि हाथ में टॉर्च लिए सैकड़ों लोग राम गंगा नदी के दोनों किनारों पर जमा हैं. इसी दौरान कुछ लोगों ने पुल के ऊपर से वीडियो बनाकर भी सोशल मीडिया पर वायरल करना शुरू कर द‍िया. इतने ज्यादा लोगों के रामगंगा नदी किनारे जमा होने की सूचना पर पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गया.
शहर में अफवाहें फैलने लगी के कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ की मौत के बाद उसका शव नदी में फेंका गया है, तो किसी ने कहा कि बदमाशों ने बच्चे का अपहरण कर हत्या करने के बाद उसके टुकड़े नदी में डाल दिए हैं. परिजन बच्चे के शव के टुकड़े तलाश में हैं, तो किसी ने कहा कि नदी में लोग मछलियां पकड़ रहे हैं. अब सवाल यह है कि मौके पर पहुंची पुलिस भी यह नहीं पता लगा कर नहीं बात पाई के रात के 12 बजे नदी के दोनों किनारों पर लोग क्यों जमा हुए थे?

पुलिसवालों से जानना भी चाहा तो उन्होंने कोई भी स्पष्ट जवाब नहीं दिया, जबकि साफ नजर आ रहा है कि सैकड़ों लोग हाथों में टॉर्च लेकर नदी किनारे कुछ तलाश करते हुए नजर आ रहे हैं, पुलिस वाले भी पुल के ऊपर बेबस खड़े होकर बस अनाउंसमेंट कर लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह घर चले जाएं लेकिन अभी तक किसी को यह नहीं पता था कि रामगंगा नदी के दोनों किनारे पर रात के 12:00 बजे सैकड़ों लोग क्यों जमा हुए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज